दिल्ली में डराने लगाने कोरोना संक्रमण, 1042 नए मामले दर्ज, संक्रमण दर 4.64 प्रतिशत पर पहुंचा

दिल्ली में डराने लगाने कोरोना संक्रमण, 1042 नए मामले दर्ज, संक्रमण दर 4.64 प्रतिशत पर पहुंचा
प्रतिरूप फोटो
ANI Image

स्वास्थ्य विभाग के बुलेटिन के मुताबिक, दिल्ली में कोरोना संक्रमण के 1,042 नए मामले सामने आए और महामारी से एक दिन में दो लोगों की मौत हो गई है। जबकि संक्रमण दर 4.64 प्रतिशत पर है। पिछले 24 घंटे में दर्ज किए गए कोरोना संक्रमण के मामले 10 फरवरी के बाद से सबसे ज्यादा राजधानी में आए सबसे ज्यादा है।

नयी दिल्ली। राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली में कोरोना संक्रमण अब डराने लगा है। पिछले 24 घंटे में कोरोना के चलते 2 व्यक्ति ने दम तोड़ दिया है और इसी के साथ ही संक्रमण के 1000 पार नए मामले सामने आए। इसके अतिरिक्त संक्रमण दर भी 4 फीसदी से ज्यादा दर्ज की गई है। स्वास्थ्य मंत्रालय ने एक बुलेटिन जारी कर इसके बारे में जानकारी दी है। 

इसे भी पढ़ें: दिल्ली मेट्रो में मास्क लगाना अनिवार्य, नियमों का उल्लंघन करने वालों को भरना पड़ेगा जुर्माना 

बुलेटिन के मुताबिक, दिल्ली में कोरोना संक्रमण के 1,042 नए मामले सामने आए और महामारी से एक दिन में दो लोगों की मौत हो गई है। जबकि संक्रमण दर 4.64 प्रतिशत पर है। पिछले 24 घंटे में दर्ज किए गए कोरोना संक्रमण के मामले 10 फरवरी के बाद से सबसे ज्यादा राजधानी में आए सबसे ज्यादा है। इससे पहले 10 फरवरी, 2022 को 1104 मामले दर्ज किए गए थे। पिछले 24 घंटे में 747 मरीज कोरोना संक्रमण से ठीक भी हुए हैं। जिसके बाद सक्रिय मरीजों की संख्या 3253 पहुंच गई है।

इससे पहले दिल्ली में कोरोना संक्रमण के 965 मामले दर्ज किए गए थे और संक्रमण के चलते एक व्यक्ति की मौत हो गई थी। जबकि गुरुवार को संक्रमण की दर 4.71 प्रतिशत थी। 

इसे भी पढ़ें: केजरीवाल सरकार का बड़ा आदेश, 18 से 59 साल के लोगों को फ्री में लगेगी बूस्टर डोज 

तीन हफ्तों में फिर लौटा मास्क

मास्क लगाने की अनिवार्यता को खत्म करने के तीन हफ्ते के अंदर ही दिल्ली सरकार ने शुक्रवार को एक बार फिर से सार्वजनिक स्थानों पर तत्काल प्रभाव से मास्क अनिवार्य कर दिया। इसके साथ ही उल्लंघन करने वालों पर 500 रुपए का जुर्माना लगाया जाएगा। हालांकि इस नियम से निजी चार पहिया वाहनों में साथ सफर कर रहे लोगों को छूट होगी।





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।