मुख्यमंत्री पशुधन योजना का शत प्रतिशत क्रियान्वयन सुनिश्चित करे : कृषि सचिव

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  जून 24, 2021   11:08
मुख्यमंत्री पशुधन योजना का शत प्रतिशत क्रियान्वयन सुनिश्चित करे : कृषि सचिव

झारखंड के कृषि, पशुपालन एवं सहकारिता सचिव अबु वक्कर सिद्दिकी ने राज्य के सभी जिला पशुपालन पदाधिकारी एवं जिला गव्य विकास पदाधिकारियों को मुख्यमंत्री पशुधन योजना का शत प्रतिशत क्रियान्वयन का निर्देश दिया है।

रांची। झारखंड के कृषि, पशुपालन एवं सहकारिता सचिव अबु वक्कर सिद्दिकी ने राज्य के सभी जिला पशुपालन पदाधिकारी एवं जिला गव्य विकास पदाधिकारियों को मुख्यमंत्री पशुधन योजना का शत प्रतिशत क्रियान्वयन का निर्देश दिया है। सिद्दिकी ने बुधवार को वीडियो कांफ्रेंस के माध्यम से विभाग द्वारा क्रियान्वित योजनाओं की समीक्षा के दौरान यह निर्देश दिये। उन्होंने इस कार्य में कोताही बरतनेवाले पदाधिकारियों के खिलाफ सख्त कार्रवाई करने को कहा है।

इसे भी पढ़ें: कोरोना वायरस के डेल्टा स्वरूप के हावी होने की आशंका, 85 देशों में सामने आए मामले

वहीं 30 जून को हूल दिवस के अवसर पर मुख्यमंत्री पशुधन योजना के तहत लाभार्थियों के बीच वितरण किये जाने वाले उपादानों का वितरण स्थानीय जनप्रतिनिधि की उपस्थिति में करने व पूरे कार्यक्रम की वीडियोग्राफी कराने को कहा। कृषि सचिव ने अधिकारियों को निर्देशित किया कि वे दुधारू पशुओं के कृत्रिम गर्भाधान का लक्ष्य 31 जुलाई तक पूरा कर भारत सरकार के पोर्टल पर अपलोड करें।

इसे भी पढ़ें: देश में एक दिन में कोविड-19 के 54,069 नए मामले, 1,321 और लोगों की मौत

वहीं उन्होंने वर्तमान में कार्यरत 1500 कृत्रिम गर्भाधान केंद्रों के अतिरिक्त 3000 नये केंद्रों को जल्द संचालित करने के भी निर्देश दिये। उन्होंने इसके अलावा गो मुक्तिधाम की स्थापना हेतु निदेशालय स्तर से तकनीकी समिति का गठन करते हुए विस्तृत प्रस्ताव तैयार कर सभी जिला स्तरीय पदाधिकारियों को उपलब्ध कराने का निर्देश दिया।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।