पहले इंटरनेशनल दोस्त शिंजो आबे, गुजरात के CM रहते ही नरेंद्र मोदी ने बना लिए थे जापान से रिश्ते

पहले इंटरनेशनल दोस्त शिंजो आबे, गुजरात के CM रहते ही नरेंद्र मोदी ने बना लिए थे जापान से रिश्ते

जापान के प्रधानमंत्री शिंजो आबे ने खराब स्वास्थ्य का हवाला देते हुए अपने पद से इस्तीफे का ऐलान कर दिया है। शिंजो आबे के स्वास्थ्य की जानकारी सामने आने के बाद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने ट्वीट किया है। आपके जल्द स्वस्थ होने की कामना और प्रार्थना करता हूं।

भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और जापान के प्रधानमंत्री शिंजो आबे ने दुनिया के सामने कई बार अपने दोस्ती का इजहार भी किया और इकरार भी। चाहे वो काशी में गंगा आरती हो या मोदी का टोक्यों में खुशियों का दौरा रहा हो। शिंजो के लिए दोस्त के मान और सम्मान का और मोदी के लिए मेहमाननवाजी वाला वेलकम। मोदी का जापान के प्रधानमंत्री शिंजो आबे से दोस्ती तबसे है, जब मोदी गुजरात के मुख्यमंत्री थे। जापान के प्रधानमंत्री शिंजो आबे ने खराब स्वास्थ्य का हवाला देते हुए अपने पद से इस्तीफे का ऐलान कर दिया है। आबे ने इस्तीफा देते हुए कहा कि वे अपनी बीमारी को अपने निर्णय लेने की क्षमता के बीच में नहीं आने देना चाहते। शिंजो आबे के स्वास्थ्य की जानकारी सामने आने के बाद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने ट्वीट किया है। पीएम मोदी ने कहा कि प्रिय दोस्त शिंजो आबे के स्वास्थ्य के बारे में सुनकर दुख हुआ।  मैं आपके जल्द स्वस्थ होने की कामना और प्रार्थना करता हूं। 

इसे भी पढ़ें: बीमारी से जूझ रहे प्रधानमंत्री शिंजो आबे ने दिया इस्तीफा, पीएम मोदी बोले- जानकर दुख हुआ

क्यों छोड़ा पीएम पद

बता दें कि शिंजो आबे जापान के सबसे लंबे समय तक प्रधानमंत्री रहे हैं। उनका मौजूदा कार्यकाल 2012 से शुरू हुआ था और पिछले 8 साल से वे लगातार चुनाव जीतकर इस पद पर थे। इससे पहले साल 2006 से 2007 तक भी जापान के प्रधानमंत्री रहे थे। 

मोदी और शिंजो की दोस्ती

नरेंद्र मोदी का जापान के प्रधानमंत्री शिंजो आबे से दोस्ती तबसे है, जब मोदी गुजरात के मुख्यमंत्री थे। शिंजो से मोदी की पहली मुलाकात वर्ष 2007 में हुई थी। इस समय शिंजो जापान के प्रधानमंत्री थे। इसके बाद मोदी 2012 में जापान की दूसरी यात्रा पर गए। इस समया शिंजो सत्ता से बाहर थे, लेकिन इसके बावजूद मोदी ने उनसे मुलाकात की थी। मोदी की यात्रा के कुछ समय बाद ही शिंजो फिर से जापान के प्रधानमंत्री बने, तब मोदी ने उन्हें फोन पर बधाई दी थी।  गणतंत्र दिवस के मौके पर जब शिंजो 26 जनवरी 2014 को विशेष अतिथि बनकर भारत आए, तब प्रोटोकॉल की वजह से गुजरात नहीं जा पाए थे। इसलिए मोदी उनसे मिलने खुद ही दिल्ली दौड़े आए थे।

इसे भी पढ़ें: शिंजो आबे जापान के PM पद से देने जा रहे है इस्तीफा,स्वास्थ्य कारण बनी बड़ी बजह

शिंजो की भारत यात्रा

साल 2014 में अगस्त-सितंबर के महीने में कूटनीतिक रिश्तों का करार लेकर जब नरेंद्र मोदी दोस्त के दर पर पहुंचे तो जापान के शाही महल में नरेंद्र मोदी का शानदार स्वागत हो या फिर क्योटो से लेकर तोक्यो तक हर पल हर लिम्हा शिंजो और नरेंद्र मोदी का साथ-साथ रहना। जापान यात्रा पर नरेंद्र मोदी को जितना वक्त मिला, न शिंजो अपने दोस्त को अकेला छोड़ना चाहते थे और न ही मोदी। 

गंगा आरती

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और जापान के प्रधानमंत्री शिंजो आबे ने 12 दिसंबर 2015 को वाराणसी का दौरा किया। दोनों नेताओं ने दशाश्वमेध घाट पर प्रार्थना की और गंगा आरती में शामिल हुए।

रोड शो और बुलेट ट्रेन की सौगात 

दो साल बाद 2017 में जापान के प्रधानमंत्री शिंजो आबे दो दिनों के भारत दौरे पर पहुंचे तो पीएम मोदी ने अहमदाबाद एयरपोर्ट पर आबे की अगवानी की और गले मिलकर अपने दोस्त का स्वागत भी किया। देश को बुलेट ट्रेन की सौगात देने से ठीक एक दिन पहले प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने जापान के प्रधानमंत्री शिंजो आबे के साथ रोड शो के जरिए गुजरात में चुनावी बिगुल फूंका। मोदी आबे के साथ 500 साल पुरानी सिद्दी सैयद मस्जिद भी गए। 





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।