गगनयान: नियंत्रण केंद्र, अंतरिक्ष यात्रियों के पुनर्वास इकाई को गुजरात में स्थानांतरित करने की योजना

गगनयान: नियंत्रण केंद्र, अंतरिक्ष यात्रियों के पुनर्वास इकाई को गुजरात में स्थानांतरित करने की योजना

अंग्रेजी अखबार टाइम्स ऑफ इंडिया की रिपोर्ट के अनुसार 5 महीने पहले गुजरात में नए इंफ्रास्ट्रक्चर के निर्माण का विश्लेषण करने के लिए एक बैठक हुई थी। इसमें एक नियंत्रण केंद्र बनाए जाने को लेकर चर्चा हुई थी। बेंगलुरु में इसट्रैक ने विशेष रूप से गगनयान के लिए नवीनीकरण शुरू किया।

इसरो गुजरात में अपने पहले मिशन गगनयान सहित भारत के मानव अंतरिक्ष उड़ान कार्यक्रम को पूरा करने के लिए नए इंफ्रास्ट्रक्चर के निर्माण पर सक्रिय रूप से विचार कर रहा है। हालांकि 29 नवंबर तक कोई औपचारिक निर्णय नहीं लिया गया है। अंग्रेजी अखबार टाइम्स ऑफ इंडिया की रिपोर्ट के अनुसार 5 महीने पहले गुजरात में नए इंफ्रास्ट्रक्चर के निर्माण का विश्लेषण करने के लिए एक बैठक हुई थी। इसमें एक नियंत्रण केंद्र बनाए जाने को लेकर चर्चा हुई थी। बेंगलुरु में इसट्रैक ने विशेष रूप से गगनयान के लिए नवीनीकरण शुरू किया। कुछ सप्ताह बाद गुजरात में संभावित अंतरिक्ष यात्रियों के पुनर्वास केंद्र के बारे में एक और चर्चा हुई। विगत कई सप्ताहों से इसरो के कई वैज्ञानिकों, इंजीनियरों और कर्मचारियों के साथ बात की जा रही है और उन्हें कहा गया है कि कुछ भी बनाने के लिए कोई औपचारिक आदेश नहीं दिया गया है लेकिन व्यवहार्यता की जाँच के बारे में तदर्थ निर्देश हैं।

इसे भी पढ़ें: टेक्नोलॉजी जो स्टार ट्रेक की कल्पनाओं तक को कर दे मात, अंतरिक्ष विज्ञान की सूरत बदलने पर ISRO कर रहा काम

नियंत्रण/मिशन केंद्र

वैज्ञानिकों ने बताया कि गुजरात  अगर इसरो ने इसे वहां बनाने का फैसला किया - तो इस्ट्रैक की तर्ज पर एक "मिरर कंट्रोल सेंटर" मिलेगा, लेकिन शायद थोड़ा छोटा होगा। इसके साथ ही कहा गया कि हमारे पास 100-150 कंसोल, एवी सुविधाएं, वीआईपी के लिए जगह आदि होंगे। इस्ट्रैक में एक समर्पित गगनयान नियंत्रण केंद्र का काम चल रहा है। “अन्य मिशनों के विपरीत, जिन्हें केवल दो हॉल की आवश्यकता होती है - अंतरिक्ष प्रणालियों और जमीनी प्रणालियों के लिए - गगनयान को तीन की आवश्यकता होगी। तीसरा पर्यावरण नियंत्रण और जीवन समर्थन, चालक दल और अन्य पहलुओं के लिए। 






नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।