मेरठ में कांग्रेस की महिला मैराथन में लड़कियों की उमड़ी भीड़, मचा हंगामा

मेरठ में कांग्रेस की महिला मैराथन में
राजीव शर्मा । Dec 17, 2021 9:59AM
मेरठ में महिलाओं और बालिकाओं को लुभाने के लिए कांग्रेस मैराथन का आयोजन किया गया। रविवार को कैलाश प्रकाश स्टेडियम में कांग्रेस की ' लड़की हूं लड़ सकती हूं ' के तहत  आयोजित मैराथन हंगामे की भेंट चढ़ गई।

मेरठ,कांग्रेस की राष्ट्रीय महासचिव प्रियंका गांधी के महिला शक्ति अभियान 'लड़की हूं लड़ सकती हूं' के तहत रविवार को कैलाश प्रकाश स्पोर्ट्स स्टेडियम में पांच किमी.महिला मैराथन दौड़ का आयोजन हुआ। दौड़ के दौरान लड़कियों में जबरदस्त उत्साह नजर आया। महिला मैराथन की शुरूआत से ही अव्यवस्थाए  हावी दिखी। इस दौरान आपसी खींचतान भी दिखाई दी। मैराथन की शुरुआत में टीशर्ट वितरण के दौरान जमकर धक्का-मुक्की हुई और भगदड़ मच गई।जबकि मैराथन की समाप्ति पर लड़कियों ने आयोजकों पर परिणाम में गड़बड़ी करने का आरोप लगाते हुए जमकर हंगामा किया। परिणाम घोषित करते समय मुख्य अतिथि मुक्केबाज विजेंदर सिंह को भी विरोध का सामना करना पड़ा।

मेरठ के कैलाश प्रकाश स्टेडियम में रविवार को सुबह साड़े नो बजे कांग्रेस की महासचिव प्रियंका गांधी के ‘लड़की हूं, लड़ सकती हूं’ के स्लोगन  के साथ महिला मैराथन दौड़ का आयोजन किया गया था। पांच किमी की दौड़ में ओलंपिक पदक विजेता मुक्केबाज विजेंद्र सिंह, मिस इंडिया 2020 रनरअप मान्या सिंह मुख्य अतिथि के रूप में शिरकत करने पहुंचे। पूर्व मिस फेमिना 2021 मान्या सिंह व बॉलीवुड स्टार अर्चना गौतम ने हरी झंडी दिखा कर रवाना किया।  अभिनेत्री अर्चना गौतम ने भी दौड़ में हिस्सा लिया। 

दौड़ शुरू होने से पहले प्रतिभागियों में टी शर्ट के लिए मारामारी मच गई। कैलाश प्रकाश स्टेडियम में कांग्रेस की महिला मैराथन में दौड़ने वाली लड़कियों को प्रियंका गांधी के स्लोगन 'लड़की हूं, लड़ सकती हूं' लिखी टीशर्ट मिलनी थी। जैसे ही टीशर्ट का वितरण शुरू हुआ आयोजन में हंगामा मच गया। कांग्रेस पदाधिकारीयों द्वारा टीशर्ट बांटी जा रही थी, लेकिन कार्यकर्ता व्यवस्था नहीं संभाल पाए। आलम यह कि टीशर्ट लेने काफी भीड़ पहुंच गई। स्कूलों से लड़कियों को लेकर आए स्टाफ को धक्का-मुक्की का शिकार होना पड़ा। कार्यकर्ता फिर भी व्यवस्था नहीं बना सके। दो बार टीशर्ट वितरण रोका गया, इसके बाद भी हर प्रतिभागी को टीशर्ट नहीं मिल सकी। जैसे तैसे के आयोजकों द्वारा दो घंटा विलम्ब से दौड़ को हरी झंडी दिखा स्टेडियम से रवाना किया गया।  

महिला मैराथन के समाप्त होने पर भी जमकर हंगामा, नारेबाजी हुई। दौड़ने आई लड़कियों ने आयोजकों पर रिजल्ट में चीटिंग और धांधली का आरोप लगाय। मैराथन दो घंटे देरी से शुरू हुई जिसके चलते लड़कियों में काफी नाराजगी थी। लड़की हूं लड़ सकती हूं, अभियान के तहत हुई मैराथन में लड़कियों और आयोजकों में जमकर लड़ाई हुई। 11.30 बजे मैराथन दौड़ कैलाश प्रकाश स्पोर्ट्स स्टेडियम से शुरू होकर एसएसपी ऑफिस, चौधरी चरण सिंह पार्क स्टेडियम होते हुए विक्टोरिया पार्क, जेल चुंगी, सर्किट हाउस, अंबेडकर चौराहा होते हुए स्पोर्ट्स स्टेडियम पर समाप्त हुई। जैसे ही लड़कियां वापस स्टेडियम में आई और मुख्य अतिथि बॉक्सर बिजेंद्र कुमार ने रिजल्ट घोषित किया वैसे ही लड़कियों ने हंगामा शुरू कर दिया।

मैराथन दौड़ में रूबी प्रथम, बाधो द्वितीय, सोनम तृतीय और रीना शर्मा चौथे स्थान पर रहीं। जिलाध्यक्ष अवनीश काजला व महानगर जाहिद अंसारी ने प्रतिभागियों को पुरस्कृत किया।

महिला मैराथन में शुरूआत से अंत तक अव्यवस्थाए हावी रहीं। इस दौरान आपसी खींचतान भी दिखाई दी। टीशर्ट वितरण से लेकर लड़कियों ने आयोजकों पर परिणाम में गड़बड़ी करने का आरोप लगाते हुए जमकर हंगामा किया। कांग्रेस के प्रदेश प्रवक्ता अभिमन्यु त्यागी, ने कहा की मैराथन में पांच हजार से ज्यादा लड़कियों ने हिस्सा लिया। दस से ज्यादा ड्रोन निगरानी के लिए लगाए गए थे। एक सुनियोजित षड्यंत्र के तहत सत्ता पक्ष से जुड़े लोगों ने अपनी खिलाड़ियों को मैराथन में शामिल कराकर हंगामा कराने की कोशिश की। लड़की हूं, लड़ सकती हूं के नारे से सभी महिला विरोधी डर गए हैं। वही कांग्रेस जिलाध्यक्ष अवनीश काजला ने आरोप लगाए की विपक्ष ने जानबूझकर हंगामा कराया। उन्होंने कहा की मैराथन में एबीवीपी की तरफ से कुछ लड़कियों को भेजा गया, जिन्होंने माहौल खराब करने का प्रयास किया।

नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।

अन्य न्यूज़