गूगल और फेसबुक को संसदीय समिति का सख्त संदेश, करना होगा IT नियमों का पालन

गूगल और फेसबुक को संसदीय समिति का सख्त संदेश, करना होगा IT नियमों का पालन

फेसबुक और गूगल के अधिकारियों ने सोशल मीडिया मंचों के दुरुपयोग के मुद्दे पर मंगलवार को सूचना प्रौद्योगिकी संबंधी संसद की स्थायी समिति के समक्ष अपना पक्ष रखा। सूचना प्रौद्योगिकी पर संसदीय स्थायी समिति ने फेसबुक और गूगल को नए आईटी नियमों और देश के नियमों का पालन करने का निर्देश दिया है।

सूचना प्रौद्योगिकी पर संसदीय स्थायी समिति ने गूगल और फेसबुक को समन भेजा था, जिसके बाद फेसबुक और गूगल इंडिया के प्रतिनिधि समिति के समक्ष पेश हुए। फेसबुक की ओर से शिवनाथ ठुकराल और नम्रता सिंह, जबकि गूगल इंडिया से अमन जैन और गीतांजलि दुग्गल शामिल हुईं। फेसबुक और गूगल के अधिकारियों ने सोशल मीडिया मंचों के दुरुपयोग के मुद्दे पर मंगलवार को सूचना प्रौद्योगिकी संबंधी संसद की स्थायी समिति के समक्ष अपना पक्ष रखा। सूचना प्रौद्योगिकी पर संसदीय स्थायी समिति ने फेसबुक और गूगल को नए आईटी नियमों और देश के नियमों का पालन करने का निर्देश दिया है। 

 समिति में कौन-कौन?

शशि थरूर समिति के अध्यक्ष हैं, जिसमें 31 सदस्य शामिल हैं। इनमें 21 लोकसभा से और 10 राज्यसभा के सदस्य हैं। 

इसे भी पढ़ें: बंगाल में सतर्क हुई भाजपा, कार्यकर्ताओं को सोशल मीडिया पर विरोधियों से दूर रहने को कहा

अब तक क्या हुआ?

सरकार ने नए आईटी नियमों को 25 फरवरी को नोटिफाई किया था। ये नियम 26 मई से लागू हो गए। ट्विटर ने अतिरिक्त समय समाप्त होने के बावजूद जरूरी अधिकारियों की नियुक्ति नहीं करने के चलते उससे सरकार के रिश्ते तल्ख हो गए। नए नियमों के तहत मिली विशेष सुरक्षा कंपनी से वापस ले ली गई थी। हालांकि गूगल, फेसबुक जैसी तमाम अन्य कंपनियों का सुरक्षा कवच बरकरार था। 





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।