भाजपा दिल्ली में अंर्तकलह, हरीश खुराना और बग्गा ने छोड़े पार्टी के कई व्हाट्सएप ग्रुप्स, ट्विटर का बायो हटाया

भाजपा दिल्ली में अंर्तकलह, हरीश खुराना और बग्गा ने छोड़े पार्टी के कई व्हाट्सएप ग्रुप्स, ट्विटर का बायो हटाया

सात लाख से अधिक फॉलोवर्स वाले भाजपा नेता तजिंदर पाल सिंह बग्गा ने अपने ट्विटर से बायो हटा दिया है। जहां पर पहले भाजपा प्रवक्ता, भाजपा कार्यकर्ता, हरि नगर विधानसभा उम्मीदवार, स्वयंसेवक लिखा हुआ था।

नयी दिल्ली। भाजपा की दिल्ली इकाई में भी अंर्तकलह दिखाई देना लगा है। नगर पालिका चुनावों से कुछ वक्त पहले पार्टी नेताओं के एक बड़े वर्ग में असंतोष पैदा हो रहा है। अंग्रेजी समाचार वेबसाइट 'द इंडियन एक्सप्रेस' की रिपोर्ट के मुताबिक भाजपा प्रवक्ता तजिंदर बग्गा और हरीश खुराना पार्टी से नाराज बताए जा रहे हैं। क्योंकि पार्टी नेतृत्व ने उचित प्रतिनिधित्व और जिम्मेदारियां नहीं दी। 

इसे भी पढ़ें: कांग्रेस ने उठाए भाजपा पर सवाल, अधीर रंजन चौधरी ने बंगाल विभाजन की मांग को बताया बड़ी साजिश 

सात लाख से अधिक फॉलोवर्स वाले भाजपा नेता तजिंदर पाल सिंह बग्गा ने अपने ट्विटर से बायो हटा दिया है। जहां पर पहले भाजपा प्रवक्ता, भाजपा कार्यकर्ता, हरि नगर विधानसभा उम्मीदवार, स्वयंसेवक लिखा हुआ था। रिपोर्ट के मुताबिक भाजपा के वरिष्ठ नेता ने बताया कि भाजपा यूथ बिंग का अध्यक्ष पद नहीं मिलने से बग्गा नाराज थे। उन्होंने बताया कि बग्गा को पार्टी प्रवक्ता के तीन व्हाट्सएप ग्रुप से हटा दिया गया था। हालांकि मंगलवार को उन्हें फिर से ग्रुप में जोड़ दिया गया था। जिसके बाद उन्होंने खुद को ग्रुप से अलग कर लिया। सूत्रों से मिली जानकारी के मुताबिक दिल्ली के पूर्व मुख्यमंत्री मदनलाल खुराना के बेटे हरीश खुराना ने भी पार्टी के कई व्हाट्सएप ग्रुप को छोड़ दिया है। सूत्रों ने बताया कि दिल्ली भाजपा के वरिष्ठ नेता होने के बावजूद हरीश खुराना खुद को उपेक्षित महसूस करते हैं। 

इसे भी पढ़ें: भाजपा सरकार ने छुपाए कोरोना वायरस से मौतों के आंकड़े : अखिलेश यादव 

हरीश खुराना और तजिंदर बग्गा द्वारा व्हाट्सएप ग्रुप छोड़े जाने पर दिल्ली भाजपा के मीडिया प्रमुख नवीन कुमार ने बताया कि खुराना बहुत सारे व्हाट्सएप ग्रुप में शामिल थे जबकि बग्गा ने अपना फोन बदल दिया है।





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।