राजस्थान के राज्यपाल ने कहा- राम मंदिर निर्माण में राजस्थान से पत्थरों को लाने का हो रहा कार्य

राजस्थान के राज्यपाल ने कहा- राम मंदिर निर्माण में राजस्थान से पत्थरों को लाने का हो रहा कार्य

राजस्थान के राज्यपाल कलराज मिश्रा आज अपने परिवार के साथ अयोध्या में हनुमानगढ़ी और भगवान श्री राम लला का दर्शन किया।

अयोध्या। राजस्थान के राज्यपाल कलराज मिश्र आज अपने परिवार के साथ अयोध्या पहुंचे। जहां सरयू तट पर पूजन अर्चन किया। और हनुमानगढ़ी पर बजरंगबली की आरती उतारी। जिसके बाद राम जन्मभूमि परिसर में श्री रामलला का दर्शन किया। इस दौरान राम मंदिर निर्माण कार्य का भी जायजा लिया। अयोध्या पहुंचे राजपाल कलराज मिश्र ने मंदिर निर्माण में लगने वाले राजस्थान के बंसी पहाड़पुर के पत्थरों को लेकर स्पष्ट कर दिया है कि पत्थरों को अयोध्या ले जाने के लिए किसी प्रकार की समस्या नहीं है।

इसे भी पढ़ें: अयोध्या पहुंचे महामहिम राष्ट्रपति ने कहा- राम के बिना अयोध्या की कल्पना नही

अयोध्या पहुंचे राजस्थान के राज्यपाल ने पत्रकारों से बात करते हुए कहा कि राम मंदिर का निर्माण स्वर्ण युग के रूप में मनाया जाएगा। आज 2 वर्ष हो गए मैं अयोध्या नहीं आ सका। जिसके लिए दिन रात हम लोग कार्य कर रहे थे। आज प्रत्यक्ष रूप से मूर्त रूप लेने का कार्य शुरू हो चुका है। मंदिर निर्माण का कार्य प्रारंभ हो चुका है। जिसका इंतजार हमें वर्षों से था। 500 वर्षों तक मंदिर निर्माण के लिए लगातार राम भक्त संघर्ष करते रहे हैं। इससे बढ़कर प्रसन्नता की बात नहीं हो सकती है। एक विशाल भव्य मंदिर का निर्माण हो रहा है। वही कहा कि रामलला के दर्शन करने के लिए भारत ही नहीं बल्कि पूरे विश्व में रहने वाले राम भक्त मंदिर को देखना चाहते हैं। और इंतजार कर रहे हैं कि जल्द से जल्द मंदिर निर्माण कार्य पूरा हो और श्री रामलला का दर्शन भव्य मंदिर में हो। अयोध्या में बनने वाला मंदिर राष्ट्रीय एकता और सामाजिक सद्भाव का केंद्र होगा। इसी दृष्टि से आज श्री रामलला का दर्शन करने के लिए अयोध्या पहुंचे हैं। तो वहीं मंदिर निर्माण में लगने वाले बंसी पहाड़पुर राजस्थान के पत्थरों को लेकर भी किसी प्रकार की समस्या नहीं है। उन्होंने बताया कि जल्द ही माउंट पर काश्तकारों से मुलाकात भी हुई है। उन लोग के मुताबिक मंदिर में लगने वाले पत्थरों को भेजा जा रहा है। राजस्थान के पत्थरों से मंदिर का निर्माण हो रहा है। यह बहुत ही अच्छी बात है।





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।