कमलनाथ ने कहा- मुझे राज्यपाल पर दया आती है... भाजपा ने माफी की मांग की

कमलनाथ ने कहा- मुझे राज्यपाल पर दया आती है... भाजपा ने माफी की मांग की

न्यूज़ एजेंसी एएनआई के मुताबिक कमलनाथ ने कहा कि हम परंपराओं का आदर करते हैं, बीजेपी की नकल नहीं करना चाहते..जो कोई परंपरा और सिद्धांत का पालन नहीं करते इसलिए हमने तय किया था कि हम अध्यक्ष का चुनाव सर्वसहमति से करवाएंगे। आज मुझे राज्यपाल पर दया आती है कि उनको ऐसा भाषण पढ़ना पड़ा जो मीडिया के लिए है प्रदेश के लिए नहीं है।

मध्य प्रदेश में आज से विधानसभा का सत्र शुरू हुआ। इस दौरान पक्ष और विपक्ष आमने सामने रहे। पूर्व मुख्यमंत्री और कांग्रेस के नेता कमलनाथ ने सत्ताधारी भाजपा पर जमकर हमला किया। न्यूज़ एजेंसी एएनआई के मुताबिक कमलनाथ ने कहा कि हम परंपराओं का आदर करते हैं, बीजेपी की नकल नहीं करना चाहते..जो कोई परंपरा और सिद्धांत का पालन नहीं करते इसलिए हमने तय किया था कि हम अध्यक्ष का चुनाव सर्वसहमति से करवाएंगे। आज मुझे राज्यपाल पर दया आती है कि उनको ऐसा भाषण पढ़ना पड़ा जो मीडिया के लिए है प्रदेश के लिए नहीं है।

कमलनाथ ने आगे कहा कि जब मैं कोरोना की बात करता था तब मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान जी मज़ाक उड़ाते थे कि ये कोरोना डरोना क्या है? और आज राज्यपाल के भाषण में  कोरोना पर अपनी उपलब्धियां बता रहे हैं। कमलनाथ के बयान पर भाजपा हमलावर हो गई है। भाजपा के मंत्री विश्वास सारंग ने कहा कि अभिभाषण के बाद कमलनाथ जी ने जो टिप्पणी की है वो बहुत दुर्भाग्यपुण और शर्मनाक है। अभी कमलनाथ जी कांग्रेस के इतने बड़े नेता नहीं हुए कि महामहिम राज्यपाल पर वो दया करे। उन्हें यथाशीघ्र अपने बयान पर सफाई देना और माफी मांगना चाहिए।





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।