नेहरू के कारण अनसुलझा है कश्मीर मुद्दा: अमित शाह

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  फरवरी 21, 2019   18:05
नेहरू के कारण अनसुलझा है कश्मीर मुद्दा: अमित शाह

भाजपा कार्यकर्ताओं की बैठक को संबोधित करते हुए शाह ने कहा कि कश्मीर के कारण पाकिस्तान आतंकवादी कृत्यों में लिप्त है। भाजपा अध्यक्ष ने कहा कि कश्मीर समस्या जवाहर लाल नेहरू की देन है।

राजामहेंद्रवरम (आंध्रप्रदेश)। भाजपा अध्यक्ष अमित शाह ने बृहस्पतिवार को कहा कि पूर्व प्रधानमंत्री जवाहरलाल नेहरू की गलत नीतियों के कारण कश्मीर अनसुलझा मुद्दा बना हुआ है। उन्होंने कांग्रेस से मुद्दे का ‘‘राजनीतिकरण’’ नहीं करने को कहा। शाह ने कहा, ‘‘जवाहरलाल नेहरू के कारण कश्मीर की समस्या बनी हुई है। सरदार पटेल हैदराबाद से जैसे निपटे और अब यह भारत का गौरवान्वित हिस्सा है लेकिन नेहरू कश्मीर से निपटे और यह आज भी समस्या बनी हुई है।’’ 

भाजपा कार्यकर्ताओं की बैठक को संबोधित करते हुए शाह ने कहा कि कश्मीर के कारण पाकिस्तान आतंकवादी कृत्यों में लिप्त है। भाजपा अध्यक्ष ने कहा कि कश्मीर समस्या जवाहर लाल नेहरू की देन है। उस वक्त सरदार पटेल देश के प्रधानमंत्री होते तो कश्मीर की समस्या पैदा ही नहीं होती। पुलवामा में आतंकी हमले का ‘‘राजनीतिकरण’’ करने के लिए कांग्रेस पर बरसते हुए शाह ने कहा कि विपक्षी पार्टी को इससे कोई फायदा नहीं मिलने वाला। शाह ने कहा, ‘‘किस मुंह से कांग्रेस प्रधानमंत्री के खिलाफ सवाल उठा रही है? 

यह भी पढ़ें: मायावती के साथ गठबंधन पर मुलायम हुए कठोर, कहा- 25 सीट भी नहीं जीतेंगे

कांग्रेस सेना प्रमुख को नाम से पुकारती है, वह सर्जिकल स्ट्राइक पर शंका प्रकट करती है, उसने प्रधानमंत्री के बारे में कहा कि खून की दलाली करते हैं। कांग्रेस के सिद्धू पाकिस्तानी सेना प्रमुख से गले मिलते हैं। कांग्रेस की पूर्व अध्यक्ष आतंकियों की मौत पर रो पड़ी थीं।’’ उन्होंने कहा, ‘‘प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के लिए देश की सुरक्षा शीर्ष प्राथमिकता है, वह 18 घंटे काम करते हैं। कांग्रेस हमें देशभक्ति न सिखाए। हम ऐसे लोग हैं जो भारत माता के लिए अपनी जान कुर्बान करने को तैयार हैं।’’ 





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।