सात फेरों के बंधन में बंधे लालू के लाल, दिल्ली के फार्म हाउस में तेजस्वी ने की शादी

सात फेरों के बंधन में बंधे लालू के लाल, दिल्ली के फार्म हाउस में तेजस्वी ने की शादी

शादी में बेहद ही खास सगे संबंधी को ही बुलाया गए हैं। हालांकि, तेजस्वी की बहन रोहिणी आचार्य इस शादी में शामिल नहीं हो सकी। हालांकि उन्होंने ट्विटर के जरिए अपने भाई और उनकी दुल्हन को आशीर्वाद दिया है।

लालू यादव के सबसे छोटे बेटे तेजस्वी यादव के सिर पर आज चेहरा सज गया। तेजस्वी यादव ने अपने बचपन के दोस्त रचेल से शादी कर ली। यह शादी मिसा भारती के फार्म हाउस साकेत में हुई। सोशल मीडिया पर तेजस्वी की शादी की तस्वीरें खूब वायरल हो रही है। शादी को बेहद ही गोपनीय रखा गया। पहले तेजस्वी और रचेल की इंगेजमेंट हुई। उसके बाद यह शादी हुई है। शादी में तेज प्रताप यादव भी पहुंचे हैं। एक फोटो में वह भी वर-वधू को आशीर्वाद देते दिखाई दे रहे हैं। रचेल क्रिश्चन है, लेकिन उनका नया नाम राजेश्वरी यादव बताया जा रहा है। यह शादी हिंदू रीति-रिवाजों के अनुसार हुई है।

शादी में बेहद ही खास सगे संबंधी को ही बुलाया गए हैं। हालांकि, तेजस्वी की बहन रोहिणी आचार्य इस शादी में शामिल नहीं हो सकी। हालांकि उन्होंने ट्विटर के जरिए अपने भाई और उनकी दुल्हन को आशीर्वाद दिया है। अपने ट्वीट में रोहिणी ने लिखा कि हम नहीं है पास, फिर भी मेरा आशीर्वाद है दोनों के साथ। टूटू यानी कि तेजस्वी और रचेल दोनों को बधाई, तुम दोनों को जीवन में खुशियां मिले यही दुआ है। इसके साथी रोहिणी ने एक तस्वीर भी साझा की है। तस्वीर में तेजस्वी यादव और उनकी पत्नी रीति रिवाज निभाते नजर आ रहे हैं। 

इसे भी पढ़ें: बिहार विधानसभा विधायी कार्यों में निर्वाचित प्रतिनिधियों की अधिकतम भागीदारी के लिए विधायकों के पीए को प्रशिक्षित करेगी

बताया जा रहा है कि यह शादी लालू यादव के बेल मिलने के बाद हो सकती थी। लेकिन कोरोना महामारी का दौर, लालू की खराब तबीयत और पार्टी में झगड़े की वजह से इसे टाला गया। अब जब सब कुछ ठीक-ठाक हो गया है तब इस सगाई को किया जा रहा है। आपको बता दें कि लालू प्रसाद यादव की 7 बेटियां और दो बेटे हैं। लालू की पत्नी राबड़ी देवी भी बिहार के मुख्यमंत्री रह चुकी हैं। तेजस्वी यादव फिलहाल विपक्ष के नेता भी हैं और राघोपुर सीट से विधायक है। तेजस्वी यादव 2015 से 2017 तक बिहार के उपमुख्यमंत्री भी रहे हैं। 





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।

Prabhasakshi logoखबरें और भी हैं...

राष्ट्रीय

झरोखे से...