एमएसपी के मुद्दे पर बातचीत के लिए तैयार है मोदी सरकार, संयुक्त किसान मोर्चा से मांगे 5 नाम

एमएसपी के मुद्दे पर बातचीत के लिए तैयार है मोदी सरकार, संयुक्त किसान मोर्चा से मांगे 5 नाम

प्राप्त जानकारी के मुताबिक केंद्र सरकार ने एमएसपी मुद्दे पर बातचीत के लिए किसानों से पांच नाम मांगे हैं। किसान नेता दर्शन पाल सिंह ने बताया कि एमएसपी समेत अन्य मुद्दों पर समिति के लिए सरकार ने किसान संगठनों से पांच नाम मांगे हैं, संयुक्त किसान मोर्चा 4 दिसंबर की बैठक में नाम तय करेगा।

नयी दिल्ली। केंद्र सरकार की तरफ से तीनों विवादास्पद कृषि कानूनों को वापस लिए जाने के बाद भी किसान संगठनों का आंदोलन जारी है। संयुक्त किसान मोर्चा (एसकेएम) न्यूनतम समर्थन मूल्य (एमएसपी) गारंटी कानून समेत 6 मांगों पर अड़ा हुआ है। हालांकि सरकार भी अब किसानों के सामने नरम होती हुई दिखाई दे रही है।

इसे भी पढ़ें: तो 1 दिसंबर को खत्म हो जाएगा किसान आंदोलन! कई संगठन घर वापसी वापसी के पक्ष में, राकेश टिकैत अब भी अड़े 

SKM की बैठक में होगा नामों पर फैसला 

प्राप्त जानकारी के मुताबिक केंद्र सरकार ने एमएसपी मुद्दे पर बातचीत के लिए किसानों से पांच नाम मांगे हैं। किसान नेता दर्शन पाल सिंह ने बताया कि एमएसपी समेत अन्य मुद्दों पर समिति के लिए सरकार ने किसान संगठनों से पांच नाम मांगे हैं, संयुक्त किसान मोर्चा 4 दिसंबर की बैठक में नाम तय करेगा। गौरतलब है कि पंजाब के किसान संगठनों ने सोमवार को अहम बैठक की थी। जिसके बाद जानकारी सामने आई कि 1 नवंबर को किसानों की आपात बैठक बुलाई गई है। 

इसे भी पढ़ें: क्या खत्म होगा किसान आंदोलन ? संयुक्त किसान मोर्चा ने 1 दिसंबर को बुलाई आपातकालीन बैठक

किसान नेताओं ने सोमवार को कहा कि यह हमारी जीत है और एक ऐतिहासिक दिन है। हम किसानों के खिलाफ मामले वापस लिया जाना चाहते हैं। हम चाहते हैं कि फसलों के लिए एमएसपी पर एक समिति गठित की जाए। केंद्र के पास हमारी मांगों का जवाब देने के लिए कल (मंगलवार) तक का समय है। हमने भविष्य की रणनीति पर चर्चा करने के लिए बुधवार को एसकेएम की एक आपात बैठक बुलाई है।





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।