एनएसयूआई ने फूंका प्रधानमंत्री मोदी का पुतला, पुलिस प्रशासन से हुई कार्यकर्ताओं की झड़प

NSUI BHOPAL
सुयश भट्ट । Jan 28, 2022 4:44PM
रेलवे एक्जाम को लेकर बिहार और यूपी में हुए लाठीचार्ज का विरोध मध्य प्रदेश तक पहुंच गया। यहां छात्र संगठन एनएसयूआई ने लाठीचार्ज के विरोध में पीएम मोदी का पुलता फूंककर विरोध जताया।पुलिस के प्रयास के बाद भी कार्यकर्ता किसी तरह पुतला फूंकने में सफल हो गए। इस दौरान पुलिस जवान और कार्यकर्ताओं में जमकर झड़पें हुई।

भोपाल। राजधानी भोपाल में एनएसयूआई ने प्रधानमंत्री मोदी का पुतला फूंका है। इस दौरान पुलिस और एनएसयूआई कार्यकर्ताओं में जमकर झड़प भी देखने को मिली। कार्यकर्ताओं ने पुलिस से पुतला छीनकर आग के हवाले कर दिया। जिसके बाद कार्यकर्ताओं को हिरासत में भी लेने की खबर है।

दरअसल रेलवे एक्जाम को लेकर बिहार और यूपी में हुए लाठीचार्ज का विरोध मध्य प्रदेश तक पहुंच गया। यहां छात्र संगठन एनएसयूआई ने लाठीचार्ज के विरोध में पीएम मोदी का पुलता फूंककर विरोध जताया।

इसे भी पढ़ें:हितग्राहियों को 3.50 लाख नए पीएम आवास की स्वीकृति, सीएम शिवराज अधिकारियों को दी चेतावनी 

बताया जा रहा है कि पुतला फूंकने से पहले एनएसयूआई कार्यकर्ताओं को पुलिस ने रोकने का प्रयास किया। पुलिस के प्रयास के बाद भी कार्यकर्ता किसी तरह पुतला फूंकने में सफल हो गए। इस दौरान पुलिस जवान और कार्यकर्ताओं में जमकर झड़पें हुई। कार्यकर्ताओं ने पीएम मोदी मुर्दाबाद और एनएसयूआई जिंदाबाद के नारे लगाए।

इसी कड़ी में गुरुवार को ग्वालियर में भी एनएसयूआी के कार्यकर्ताओं ने परीक्षा तिथि को लेकर जीवाजी विश्वविद्यालय में विरोध प्रदर्शन किया था। इस दौरान कलेक्टर ने छात्र नेताओं की जमकर क्लास ली थी। कलेक्टर की समझाइश के बाद मामला शांत हुआ था।

इसे भी पढ़ें:प्रमोशन में आरक्षण पर सुप्रीम कोर्ट का फैसला, राज्य सरकार पर छोड़ा मामला 

मध्य प्रदेश एनएसयूआई के प्रदेश उपाध्यक्ष आशुतोष चौकसे ने मीडिया से बातचीत करते हुए कहा कि जिस तरीके से यूपी और बिहार में छात्रों को पुलिस ने बर्बरता से पीटा है वह निंदनीय है। आशुतोष ने कहा कि बीजेपी सरकार माफी मांगे और उन सभी विद्यार्थी और शिक्षकों पर जो मुकदमे दर्ज किए गए हैं उन्हें वापस ले। आशुतोष ने यह भी कहा कि हम शांतिपूर्वक प्रदर्शन कर रहे थे लेकिन पुलिस ने हमें भी बर्बरता से पीटा।

नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।

अन्य न्यूज़