आंध्र प्रदेश और पश्चिम बंगाल में 10 सालों में 429 मानव तस्करी के मामलों में केवल तीन साबित हुए दोषी

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  सितंबर 3, 2019   17:20
आंध्र प्रदेश और पश्चिम बंगाल में 10 सालों में 429 मानव तस्करी के मामलों में केवल तीन साबित हुए दोषी

अध्ययन में यह भी पता चला है कि 429 मानव तस्करों में से 31 मानव तस्करी के कई मामलों में आरोपी हैं और उनके पीड़ित बच्चियां और किशोरियां हैं। इन 31 आरोपियों ने इस अध्ययन में कुल विश्लेषण किए गए जुर्म में से 91 (या 19 फीसदी) अपराध अंजाम किए हैं। इस अध्ययन से पता चला है कि 429 नामजद आरोपियों में से सिर्फ तीन को दोषी ठहराया गया है जिन्हें पांच से सात साल तक की सजा दी गई है।

नयी दिल्ली। आंध्र प्रदेश और पश्चिम बंगाल में बीते 10 साल में 429 मानव तस्करों में से केवल तीन दोषी साबित हुए हैं। विभिन्न एनजीओ द्वारा 198 ऐसे मामलों के आरोप पत्र, प्राथमिकियों और पुलिस रोज़नामचा का किये गए अध्ययन में यह पाया गया है। यह अध्ययन आंध्र प्रदेश में एचईएलपी और पश्चिम बंगाल में गोरानबोस ग्राम बिकास केंद्र और पार्टनर्स फॉर एंटी-ट्रैफिकिंग (पीएटी) ने किया है जो समुदाय आधारित आठ संगठनों का संघ है। इसने पाया कि 68 मानव तस्करों को जमानत दी गई है और पांच आरोपियों से संबंधित जांच एक दशक से ज्यादा वक्त से चल रही है।

इसे भी पढ़ें: NRC को लेकर आपके मन में उठने वाले सभी सवालों के विस्तृत जवाब यह रहे

अध्ययन में यह भी पता चला है कि 429 मानव तस्करों में से 31 मानव तस्करी के कई मामलों में आरोपी हैं और उनके पीड़ित बच्चियां और किशोरियां हैं। इन 31 आरोपियों ने इस अध्ययन में कुल विश्लेषण किए गए जुर्म में से 91 (या 19 फीसदी) अपराध अंजाम किए हैं। इस अध्ययन से पता चला है कि 429 नामजद आरोपियों में से सिर्फ तीन को दोषी ठहराया गया है जिन्हें पांच से सात साल तक की सजा दी गई है। वहीं 10 आरोपियों को ऐसे मामलों में सबूतों के अभावों में बरी कर दिया गया है जो कई सालों तक चलते रहे। अन्य मामलों में जांच चल रही है।

इसे भी पढ़ें: नारद घोटाले में CBI ने जांचे मंत्री सुब्रत मुखर्जी और IPS अधिकारी के वॉयस सैंपल

अदालतों और थानों से दस्तावेज हासिल कर अध्ययन करने वाली स्निग्धा सेन ने बताया कि अध्ययन में पाया गया है कि दोष सिद्धि का आंकड़ा कम है और बरी किए जाने का आंकड़ा ज्यादा है। इससे मानव तस्करी के मामलों में कानून लागू करने वाली एजेंसियों की जांच करने की दक्षता पर संदेह पैदा होता है।सेन ने कहा कि इन मामलों में पश्चिम बंगाल और आंध्र प्रदेश के मानव तस्करी के 173 से ज्यादा पीड़ित हैं।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।

Prabhasakshi logoखबरें और भी हैं...

राष्ट्रीय

झरोखे से...