वायु सेना स्टेशन पर हमले के विरोध में जम्मू में पाकिस्तान का झंडा जलाया गया

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  जून 28, 2021   15:02
वायु सेना स्टेशन पर हमले के विरोध में जम्मू में पाकिस्तान का झंडा जलाया गया

भारतीय वायु सेना के यहां स्थित स्टेशन पर ड्रोन से किये गए हमले तथा पुलवामा जिले में एक विशेष पुलिस अधिकारी, उनकी पत्नी और बेटी की आतंकवादियों द्वारा की गई हत्या के विरोध में शिवसेना डोगरा फ्रंट (एसएसडीएफ) के कार्यकर्ताओं ने सोमवार को पाकिस्तानी झंडा जलाया।

जम्मू। भारतीय वायु सेना के यहां स्थित स्टेशन पर ड्रोन से किये गए हमले तथा पुलवामा जिले में एक विशेष पुलिस अधिकारी, उनकी पत्नी और बेटी की आतंकवादियों द्वारा की गई हत्या के विरोध में शिवसेना डोगरा फ्रंट (एसएसडीएफ) के कार्यकर्ताओं ने सोमवार को पाकिस्तानी झंडा जलाया। रविवार को तड़के जम्मू हवाई अड्डे पर स्थित वायु सेना स्टेशन पर दो ड्रोन से बम गिराए गए थे। इस हमले में वायु सेना के दो कर्मी घायल हो गए थे। इसके कुछ घंटे बाद आतंकवादियों ने दक्षिण कश्मीर के पुलवामा जिले में एक गांव में एक एसपीओ उसकी पत्नी और बेटी की गोली मारकर हत्या कर दी।

इसे भी पढ़ें: उत्तर प्रदेश के 75 जिलों में 80 अस्पतालों में मिशन ऑक्सीजन का कार्य युद्धस्तर पर जारी

एसएसडीएफ के दर्जनों कार्यकर्ता, अध्यक्ष अशोक गुप्ता के नेतृत्व में जम्मू के रानी पार्क में एकत्र हुए और पाकिस्तान के झंडे को आग लगा दी तथा आतंकी हमलों के विरोध में नारे लगाए। अधिकारियों ने बताया कि प्रदर्शनकारियों ने हाथ मेंतिरंगा झंडा लिया था और वे बाद में शांतिपूर्वक चले गए। गुप्ता ने संवाददाताओं से कहा, “जम्मू कश्मीर में वायु सेना स्टेशन पर हुए अपने तरह के पहले हमले तथा एसपीओ, उसकी पत्नी और बेटी की हत्या के विरोध में हमने प्रदर्शन का आयोजन किया। हम मांग करते हैं कि ऐसे हमलों के लिए पाकिस्तान को मुंहतोड़ जवाब दिया जाए।”

इसे भी पढ़ें: कोविड से बचाव के लिए सुबह खाली पेट खाएं ये 3 चीजें, इस तरह बूस्ट होगी इम्यूनिटी!

पीडीपी प्रमुख महबूबा मुफ्ती का नाम लिए बगैर गुप्ता ने कहा कि इस प्रकार की घटनाओं से उन लोगों की आंखें खुलनी चाहिए जो पाकिस्तान के साथ बातचीत कर देश को बर्बाद करना चाहते हैं।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।