PM मोदी का मंदिर मंथन, CM योगी अयोध्या के विकास का पेश करेंगे विजन

PM मोदी का मंदिर मंथन, CM योगी अयोध्या के विकास का पेश करेंगे विजन

सीएम योगी अयोध्या के विकास पर विजन पेश करेंगे। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ पीएम मोदी को अयोध्या में हो रहे आधुनिकीकरण, सड़कों, बुनियादी ढांचे, रेलवे स्टेशन, हवाई अड्डे, लंबित परियोजनाओं सहित विकास अन्य कार्यों का विजन पेश करेंगे।

हनुमान तेहि परसा कर पुनि कीन्ह प्रणाम। राम काजु कीन्हें बिनु मोहि कहां बिश्राम॥

इन पंक्तियों के साथ श्रीराम मंदिर के शिलान्यास के दौरान पीएम नरेंद्र मोदी ने देश को संबोधित किया वह आज भी प्रासंगिक है। सुंदरकांड की इन पंक्तियों का भावार्थ है- लंका की ओर जाते समय हनुमान्‌जी को मैनाक पर्वत ने थोड़ी देर अपने ऊपर विश्राम करने का आमंत्रण दिया। भक्ति और कर्मनिष्ठा से भरे हुए हनुमान जी ने पर्वत को हाथ से छू कर प्रणाम किया और कहा- श्री रामचंद्रजी का काम किए बिना मुझे विश्राम कहाँ? 5 अगस्त 2020 को राम की नगरी अयोध्या में राम मंदिर के भूमि पूजन की नींव रखी, जिसके बाद से ही निरंतर वो राम काज में लगे हैं। इसी क्रम में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी शनिवार को अयोध्या में चल रहे विकास कार्यों का हाल जानेंगे। पीएम मोदी के साथ सीएम योगी की वर्चुअल मीटिंग होगी। सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार सीएम योगी अयोध्या के विकास पर विजन पेश करेंगे। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ पीएम मोदी को अयोध्या में हो रहे आधुनिकीकरण, सड़कों, बुनियादी ढांचे, रेलवे स्टेशन, हवाई अड्डे, लंबित परियोजनाओं सहित विकास अन्य कार्यों का विजन पेश करेंगे। 

इसे भी पढ़ें: राम मंदिर भूमि खरीद मामला सीबीआई, ईडी जांच के लिये उपयुक्त: संजय राउत

प्राप्त जानकारी के अनुसार यूपी के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के अलावा इस बैठक में दोनों उपमुख्यमंत्री दिनेश शर्मा और केशव प्रसाद मौर्य भी रह सकते हैं। इसके अलावा वित्त मंत्री सुरेश खना, नगर विकास मंत्री आशुतोष टंडन, पर्यटन मंत्री नील कंठ तिवारी, सिंचाई मंत्री महेंद्र सिंह भी होंगे बैठक में शामिल हो सकते हैं।





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।