कालीचरण महाराज की गिरफ्तारी पर सियासत शुरू, कांग्रेस ने बीजेपी पर कसा तंज

Kalicharan maharaj arrested
सुयश भट्ट । Dec 30, 2021 1:32PM
कांग्रेस नेता पी सी शर्मा ने आरोप लगाते हुए कहा कि महात्मा गांधी को गाली देने वाले ने बीजेपी शासित प्रदेश इसलिए ही तो चुना था, ताकि ऐसे ही उसका बचाव हो सके। महात्मा गांधी को गाली देने वाला अगर गिरफ्तार हुआ है तो उसमें आपका आपत्ति कैसी है।

भोपाल। मध्य प्रदेश के खजुराहो से कालीचरण महाराज की गिरफ्तारी पर सियासत शुरू हो गई है।  गृह मंत्री नरोत्तम मिश्रा की आपत्ति पर कांग्रेस ने सवाल उठाए हैं। और कांग्रेस आरोप लगा रही है कि गोडसे समर्थकों को दिक्कत शुरू हो गई है।

कांग्रेस नेता पी सी शर्मा ने आरोप लगाते हुए कहा कि महात्मा गांधी को गाली देने वाले ने बीजेपी शासित प्रदेश इसलिए ही तो चुना था, ताकि ऐसे ही उसका बचाव हो सके। महात्मा गांधी को गाली देने वाला अगर गिरफ्तार हुआ है तो उसमें आपका आपत्ति कैसी है। पीसी शर्मा ने रायपुर पुलिस को बधाई भी दी है कि उन्होंने मध्य प्रदेश आकर कालीचरण को गिरफ्तार कर लिया है।

इसे भी पढ़ें:कालीचरण महाराज की गिरफ्तारी को लेकर नरोत्तम मिश्रा ने जताई आपत्ति, कहा - यह इंटर स्टेट प्रोटोकॉल का उल्लंघन है 

कांग्रेस प्रवक्ता के के मिश्रा ने ट्वीट करते हुए कहा कि साधु के आवरण में शैतान कालीचरण की CG पुलिस द्वारा की गई गिरफ्तारी पर गृहमंत्री नरोत्तम मिश्रा जी का बयान दुर्भाग्यपूर्ण!वे राजनैतिक आधार पर अपराधियों का करते हैं बचाव,क्या यह संवैधानिक आचरण हैं? गृहमंत्री बताएं क्या वे कालीचरण के बयान से सहमत हैं?

कांग्रेस प्रवक्ता नरेंद्र सलुजा ने ट्वीट कर कहा कि कालीचरण महाराज की गिरफ़्तारी पर छत्तीसगढ़ पुलिस को बधाई। बड़े शर्म की बात है कि गृह मंत्री इस कार्यवाही का स्वागत करने की बजाय इस पर सवाल उठा रहे हैं। क़ायदे से एमपी पुलिस को ख़ुद उन्हें गिरफ़्तार करना चाहिये था, लेकिन लगता है कि शिवराज सरकार उन्हें संरक्षण दे रही थी।

इसे भी पढ़ें:MP के खजुराहो से गिरफ्तार हुए धार्मिक नेता कालीचरण महाराज 

वहीं इंदौर जिले में राष्ट्रपिता महात्मा गांधी को अपशब्द कहने वाले कालीचरण का कांग्रेस ने कड़ा विरोध जताया है। कांग्रेसियों ने कालीचरण का पुतला दहन किया है। शहर के हर वार्ड में कांग्रेसियों ने पुतला दहन किया।

दरअसल कालीचरण की गिरफ्तारी को लेकर रायपुर पुलिस ने लोकल पुलिस या मप्र ग्रह विभाग को सूचना नहीं दी थी। नियमों के तहत लोकल थाना में जानकारी देना होता है।

नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।

अन्य न्यूज़