पंजाब सरकार हिंदू ग्रंथों के लिए शोध केंद्र स्थापित करेगी:चन्नी

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  नवंबर 29, 2021   08:55
पंजाब सरकार हिंदू ग्रंथों के लिए शोध केंद्र स्थापित करेगी:चन्नी
प्रतिरूप फोटो

यहां भगवान परशुराम तपोस्थल की आधारशिला रखने के बाद चन्नी ने शिरोमणि अकाली दल के संरक्षक प्रकाश सिंह बादल की तुलना कथित तौर पर महाभारत के धृतराष्ट्र से करते हुए कहा कि उनके पुत्र मोह ने उनकी पार्टी को बर्बाद कर दिया है।

फगवाड़ा (पंजाब)| पंजाब के मुख्यमंत्री चरणजीत सिंह चन्नी ने रविवार को हिंदू ग्रंथों रामायण, महाभारत और भगवद गीता पर शोध केंद्र स्थापित करने की घोषणा की और कहा कि वह संस्कृत सीखेंगे और महाभारत पर डॉक्टरेट करेंगे।

यहां भगवान परशुराम तपोस्थल की आधारशिला रखने के बाद चन्नी ने शिरोमणि अकाली दल के संरक्षक प्रकाश सिंह बादल की तुलना कथित तौर पर महाभारत के धृतराष्ट्र से करते हुए कहा कि उनके पुत्र मोह ने उनकी पार्टी को बर्बाद कर दिया है।

इसे भी पढ़ें: मंत्रियों को सरकार से मिलने वाली सभी सुविधाएं जनता को मुहैया कराएंगे: केजरीवाल

मुख्यमंत्री ने कहा कि शोध केंद्र तीन हिंदू ग्रंथों के संदेश को प्रदर्शित करेगा। उन्होंने कहा कि युगों से ये ग्रंथ पूरी मानवता के लिए प्रेरणा के स्रोत रहे हैं और शोध केंद्र इनके संदेश को सबसे आसान रूप में जनता तक पहुंचाने के लिए उत्प्रेरक का काम करेगा।

चन्नी ने कहा कि उनकी सरकार इस महत्वाकांक्षी परियोजना के लिए एक सम्मानित शंकराचार्य को शामिल करने की कोशिश कर रही है।

चन्नी ने कहा, एक बुद्धिमान और विद्वान व्यक्ति ने मुझसे कहा था कि मुझे अपने जीवन को सार्थक बनाने के लिए हर दिन भगवद गीता का एक श्लोक सीखना चाहिए। गीता के उपदेश अद्वितीय हैं। मेरी वर्तमान पीएचडी तीन महीने में पूरी हो जाएगी। फिर मैं संस्कृत सीखना शुरू कर दूंगा और महाभारत पर पीएचडी करूंगा।

इसे भी पढ़ें: चन्नी ने कोविड से मरने वालों के परिजनों को चार लाख रुपये मुआवजा देने का आग्रह किया

मुख्यमंत्री ने कहा कि राज्य में आवारा पशुओं की उचित देखभाल सुनिश्चित करने के लिए ब्राह्मण कल्याण बोर्ड को यह कार्य सौंपा जाएगा।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।

Prabhasakshi logoखबरें और भी हैं...

राष्ट्रीय

झरोखे से...