कोलकाता में नहीं मिली रैली की इजाजत, TMC सरकार पर बरसे असदुद्दीन औवेसी

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  फरवरी 25, 2021   20:21
कोलकाता में नहीं मिली रैली की इजाजत, TMC सरकार पर बरसे असदुद्दीन औवेसी

औवेसी ने हैदराबाद में संवाददाताओं से कहा कि तृणमूल कांग्रेस के सांसद संसद में लोकतंत्र और अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता की बात करते हैं लेकिन पश्चिम बंगाल में यह जमीनी स्तर पर नजर नहीं आता।

हैदराबाद। एआईएमआईएम के प्रमुख असदुद्दीन ओवैसी ने चुनावी राज्य पश्चिम बंगाल की राजधानी में रैली आयोजित करने के लिए कोलकाता पुलिस द्वारा अनुमति नहीं दिए जाने पर बृहस्पतिवार को रोष जताया। औवेसी ने संसद में तृणमूल कांग्रेस सांसदों द्वारा लोकतंत्र के बारे में बोले जाने का भी मजाक उड़ाया। हैदराबाद के सांसद औवेसी की पार्टी ऑल इंडिया मजलिस-ए-इत्तेहादुल मुस्लिमीन ने बंगाल के विधानसभा चुनाव में उम्मीदवार उतारने का फैसला किया है।

औवेसी ने दावा किया कि बृहस्पतिवार को प्रस्तावित रैली को बिना किसी कारण बताए अनुमति देने से इंकार कर दिया गया। उन्होंने सवाल किया, आपने (टीएमसी सरकार) केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह को रैली की अनुमति दी। आपने भाजपा, कांग्रेस, वामपंथी दलों को रैलियां करने की इजाजत दी लेकिन एआईएमआईएम को नहीं। क्यों? औवेसी ने हैदराबाद में संवाददाताओं से कहा कि तृणमूल कांग्रेस के सांसद संसद में लोकतंत्र और अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता की बात करते हैं लेकिन पश्चिम बंगाल में यह जमीनी स्तर पर नजर नहीं आता। 

इसे भी पढ़ें: बंगाल चुनाव 2021: कोलकाता में ओवैसी की पहली रैली को नहीं मिली पुलिस की मंजूरी, कार्यक्रम रद्द

उन्होंने कहा कि अप्रैल-मई में होने वाले चुनावों की आचार संहिता लागू होने के बाद एआईएमआईएम ऐसे पुलिस अधिकारियों को उसी पद पर बने रहने के खिलाफ चुनाव आयोग जाने को मजबूर होगी। औवेसी ने आरोप लगाया, अगर ऐसे अधिकारी वहां हैं तो चुनाव स्वतंत्र एवं निष्पक्ष नहीं होंगे। विधानसभा चुनाव से पहले एआईएमआईएम कोलकाता के मुस्लिम बहुल मेतियाब्रुज इलाके से रैली के साथ ही चुनाव प्रचार अभियान की शुरुआत करने जा रही थी।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।