विज्ञान, प्रौद्योगिकी से वृद्धि को प्रोत्साहन मिला: हर्ष वर्धन

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  फरवरी 23, 2019   11:44
विज्ञान, प्रौद्योगिकी से वृद्धि को प्रोत्साहन मिला: हर्ष वर्धन

केंद्रीय विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी मंत्री हर्ष वर्धन ने कहा कि 2018 ऐसा वर्ष रहा जबकि देश के शोध एवं विकास की अगुवाई वाले नवोन्मेषण को और मान्यता मिली। यह वृद्धि एवं विकास का सबसे ताकतवर माध्यम बनकर उभरा।

हैदराबाद। केंद्रीय विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी मंत्री हर्ष वर्धन ने शुक्रवार को कहा कि देश की विज्ञान और प्रौद्योगिकी क्षेत्र की उपलब्धियां तेजी से वृद्धि में सहयोग कर रही हैं और साथ ही सामाजिक आर्थिक विकास में भी योगदान दे रहीं हैं। उन्होंने कहा कि मूल अनुसंधान क्षेत्र में भारत शीर्ष रैंकिंग वाले देशों में रहा है। वह यहां उद्योग मंडल फिक्की द्वारा विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी विभाग के साथ मिलकर आयोजित दो दिन के वैश्विक शोध एवं विकास सम्मेलन 2019 के दूसरे दिन एक विशेष सत्र को मुख्य वक्ता के रूप में संबोधित कर रहे थे।

इसे भी पढ़ें: वरिष्ठ राजनयिक हर्षवर्धन श्रृंगला अमेरिका में भारत के नए राजदूत नियुक्त

उन्होंने कहा कि 2018 ऐसा वर्ष रहा जबकि देश के शोध एवं विकास की अगुवाई वाले नवोन्मेषण को और मान्यता मिली। यह वृद्धि एवं विकास का सबसे ताकतवर माध्यम बनकर उभरा। विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी विभाग (डीएसटी) के एक सर्वेक्षण के अनुसार सार्वजनिक क्षेत्र के अनुसंधान एवं शोध में भारत शीर्ष 13 देशों में शामिल रहा है। इनमें अमेरिका, रूस, ब्रिटेन और अन्य देश शामिल हैं।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।