नवरात्र मेला में कोविड टीकाकरण के विशेष सत्र का आयोजन , ज्वालामुखी में आने वालों की होगी रैंडम सैंपलिंग

नवरात्र मेला में कोविड टीकाकरण के विशेष सत्र का आयोजन , ज्वालामुखी में आने वालों की होगी रैंडम सैंपलिंग

सरकार की ओर से श्रद्धालुओं की रैंडम सैंपलिंग के आदेश हैं। इसके लिए ज्वालामुखी में भी इंतजाम किये गये हैं। उन्होंने श्रद्धालुओं से दर्शनों के दौरान कोविड प्रोटोकॉल की अनुपालना की अपील की। ताकि किसी भी परेशानी से बचा जा सके। उन्होंने आने वाले श्रद्धालुओं से भी सैंपलिंग के लिये आगे आने का आह्वान किया।

धर्मशाला । ज्वालामुखी के एसडीएम धनवीर ठाकुर  ने जानकारी देते हुए बताया कि स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण विभाग द्वारा श्रद्धालुओं के लिए नवरात्रि पर्व पर प्रसिद्ध शक्तिपीठ ज्वालामुखी में श्रद्धालुओं की सुविधा के लिए मंदिर परिसर में कोविड टीकाकरण के विशेष सत्र का आयोजन आज  से किया जा रहा है। उन्होंने कहा कि श्रद्धालु मंदिरों में माथा टेकने के साथ-साथ टीकाकरण सत्र का भी लाभ उठा सकते हैं।

 

इसे भी पढ़ें: नवरात्रि का सातवां दिन--- इस दिन मां कालरात्रि की पूजन का विधान है

 

उन्होंने कहा कि सरकार की ओर से श्रद्धालुओं की रैंडम सैंपलिंग के आदेश हैं। इसके लिए ज्वालामुखी में भी इंतजाम किये गये हैं। उन्होंने श्रद्धालुओं से दर्शनों के दौरान कोविड प्रोटोकॉल की अनुपालना की अपील की। ताकि किसी भी परेशानी से बचा जा सके। उन्होंने आने वाले श्रद्धालुओं से भी  सैंपलिंग के लिये आगे आने का आह्वान किया। 

इसे भी पढ़ें: शिमला नगर व आसपास के उप-नगरों में विजय दशमी के दिन रावण पुतला दहन कार्यक्रम आयोजन से पूर्व स्थानीय प्रशासन से अनुमति लेना अनिवार्य - उपायुक्त

एसडीएम धनवीर ठाकुर ने बताया कि कोरोना महामारी की गंभीरता को ध्यान में रखते हुए इन मेलों के दौरान सरकार द्वारा निर्धारित मानक संचालन प्रक्रिया के तहत किया जा रहा है। आने वाले श्रद्धालु शारीरिक दूरी, मास्क, सफाई एवं स्वच्छता का विशेष ध्यान रखा जा रहा है। उन्होंने श्रद्धालुओं से किसी भी प्रकार की लापरवाही न करने की अपील की। व कहा कि प्रशासन मंदिर में दर्शनों के लिए पहुंचने वाले यात्रियों को कोरोना नियमों की पालना करवाने के लिए पूरी तरह सतर्क है व किसी भी श्रद्धालु को बिना मास्क के प्रवेश अनुमति नहीं दी जा रही है। लेकिन इसमें दर्शनों से किसी को भी रोका नहीं जा रहा है। जिनके पास मास्क नहीं होंगे। हम उन्हें उपलब्ध करवायेंगे। उन्होंने कहा कि इस वर्ष भी कोरोना का संकट हमारे बीच से गया नहीं है। उन्होंने कहा कि संक्रमण को रोकने के लिए भंडारे और लंगर पूर्ण रूप से बंद हैं। 





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।

Prabhasakshi logoखबरें और भी हैं...

राष्ट्रीय

झरोखे से...