नवनियुक्त प्रदेश अध्यक्ष सुकांता मजूमदार बोले- पश्चिम बंगाल में 'तालिबान' के खिलाफ जारी रहेगी लड़ाई

नवनियुक्त प्रदेश अध्यक्ष सुकांता मजूमदार बोले- पश्चिम बंगाल में 'तालिबान' के खिलाफ जारी रहेगी लड़ाई

पार्टी में अंदरुनी मतभेद और नेताओं के पाला बदलकर राज्य में सत्तारूढ़ तृणमूल कांग्रेस की ओर जाने की पृष्ठभूमि में पार्टी ने दिलीप घोष की जगह मजूमदार को दी है।

भारतीय जनता पार्टी ने पश्चिम बंगाल प्रदेश अध्यक्ष की कमान बालूरघाट सीट से लोकसभा सदस्य डॉ सुकांता मजूमदार को सौंपी है। इसके साथ ही आज सुकांता मजूमदार ने पश्चिम बंगाल को लेकर बड़ी बातें कहीं। न्यूज़ एजेंसी एएनआई के मुताबिक सुकांता मजूमदार ने कहा कि अगर कुछ लोग सोचते हैं कि बीजेपी छोड़कर वे पार्टी खत्म कर देंगे, तो ऐसा नहीं होगा। पश्चिम बंगाल में 'तालिबान' के खिलाफ हमारी लड़ाई जारी रखनी है। अगर टीएमसी ने हमें स्थानीय निकाय चुनावों में केंद्रीय बलों का उपयोग करके वोट देने की चुतौती पेश की तो हम उन्हें दिखाएंगे कि भाजपा क्या कर सकती है?

उन्होंने आगे कहा कि टीएमसी एक राजनीतिक दल की आड़ में परिवार के स्वामित्व वाली संपत्ति बन गई है। फिर भी भाजपा वह पार्टी है जो आम लोगों को महत्वपूर्ण जिम्मेदारियां देती है। मैं उन लोगों को धन्यवाद देता हूं जो पश्चिम बंगाल को अफगानिस्तान बनने से बचाने की कोशिश कर रहे हैं। 

दिलीप घोष का बयान

पूर्व प्रदेश अध्यक्ष दिलीप घोष ने कहा कि अनुभव बढ़ता है तो पार्टी ज़िम्मेदारी बढ़ाती है। दूसरी पार्टियों की समस्या है कि वे पारिवारिक पार्टियां हैं, निजी कंपनी की तरह चलती हैं। वहां तय रहता है कि कौन ज़िम्मेदारी लेगा। BJP में कोई सोच नहीं सकता कि आगे कौन नेतृत्व करेगा। मुझे और अनुभव मिला है इसलिए पार्टी ने मुझे और बड़ी जिम्मेदारी दी है। मैंने चुनाव के बाद पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष के साथ बैठक की और उन्हें अपने कर्तव्यों के बारे में बताया। मेरा मिशन अब आधा पूरा हो गया है। 

इसे भी पढ़ें: पश्चिम बंगाल में दिलीप घोष की जगह सुकांता मजूमदार बने भाजपा प्रदेश अध्यक्ष

सुकांता मजूमदार को बनाया गया प्रदेश अध्यक्ष

पार्टी में अंदरुनी मतभेद और नेताओं के पाला बदलकर राज्य में सत्तारूढ़ तृणमूल कांग्रेस की ओर जाने की पृष्ठभूमि में पार्टी ने दिलीप घोष की जगह मजूमदार को दी है। पार्टी द्वारा जारी बयान के अनुसार, घोष को भाजपा का राष्ट्रीय उपाध्यक्ष बनाया गया है। बॉटनी से पीएचडी 41 वर्षीय मजूमदार के घोष के साथ करीबी संबंध हैं। उन्होंने पत्रकारों से कहा, ‘‘मैं यह अवसर देने के लिए पार्टी नेतृत्व को धन्यवाद देता हूं। पार्टी पिछले कुछ साल में और मजबूत हुई है। मैं इसकी नींव और मजबूत बनाने पर काम करुंगा।’’





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।

Prabhasakshi logoखबरें और भी हैं...

राष्ट्रीय

झरोखे से...