जिला सिरमौर के गिरिपार क्षेत्र के हाटी समुदाय की मांग को लेकर केंद्रीय मंत्री अर्जुन मुंडा से मिले सांसद सुरेश कश्यप

जिला सिरमौर के गिरिपार क्षेत्र के हाटी समुदाय की मांग को लेकर केंद्रीय मंत्री अर्जुन मुंडा से मिले सांसद सुरेश कश्यप

जिला सिरमौर गिरिपार का क्षेत्र व उत्तराखंड का जौनसार बाबर का क्षेत्र रियासत काल में जिला सिरमौर रियासत का ही हिस्सा था । इस मांग को लेकर जिला सिरमौर का प्रतिनिधि 20-12-20211 को पूर्व प्रधान मंत्री मनमोहन सिंह जी को वर्तमान प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी से मिल चूका है ।

शिमला  भाजपा प्रदेश अध्यक्ष एवं सांसद सुरेश कश्यप ने शिमला संसदीय क्षेत्र के जिला सिरमौर के गिरिपार क्षेत्र के हाटी समुदाय की मांग को लेकर केंद्रीय मंत्री अर्जुन मुंडा से मिलकर इस मांग को शीघ्र पूरा करने का आग्रह किया ।

 

ट्रांसगिरि क्षेत्र की हाटी समुदाय को जनजातीय घोषित की मांग लम्बे समय से चली आ रही हैं । जिला सिरमौर का ट्रांसगिरि एरिया जोकि उत्तराखंड के जौनसार बाबर के साथ लगता क्षेत्र है , इसमें जिला सिरमौर के चार ब्लॉकों की लगभग 144 पंचायते आती है तथा लगभग 02.75 लाख की जनसंख्या हाटी समुदाय की हैं । 1967 में जौनसार बाबर क्षेत्र के लोगो को जनजातिय घोषित कर दिया गया था । परन्तु हिमाचल के गिरिपार क्षेत्र के हांटी समुदाय को जनजातीय घोषित नहीं किया गया ।

 

इसे भी पढ़ें: धर्मशाला आगमन पर मुख्यमंत्री का गर्मजोशी से स्वागत किया गया

 

जबकि जिला सिरमौर गिरिपार का क्षेत्र व उत्तराखंड का जौनसार बाबर का क्षेत्र रियासत काल में जिला सिरमौर रियासत का ही हिस्सा था । इस मांग को लेकर जिला सिरमौर का प्रतिनिधि 20-12-20211 को पूर्व प्रधान मंत्री  मनमोहन सिंह  , 14-02-2017 को वर्तमान प्रधान मंत्री  नरेंद्र मोदी  , पूर्व गृह और वर्तमान रक्षा मंत्री  राजनाथ सिंह  व पूर्व जनजातीय मामलों के मंत्री जुआल ओरम  तथा आर.जी.आई ( रजिस्ट्रार जनरल ऑफ इंडिया ) से मिल चूका है । सम्बंधित मंत्रालय द्वारा मांगी गयी सारी रिपोर्ट्स प्रदेश सरकार के द्वारा केंद्र को भेजी जा चुकी है । ट्रांसगिरि एरिया की हाटी समुदाय की एथनोग्राफी की आर.जी.आई को भेज दी गई है ।  माननीय मंत्री ने आशवासन दिया की तुरंत पूरा मामले का विवरण मांगकर आगे की कार्यवाही अमल में लाई जाएंगी ।





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।