सुषमा ने चीन से कहा, जैश को पाकिस्तान से मिली छूट से हुआ पुलवामा हमला

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  फरवरी 27, 2019   20:38
सुषमा ने चीन से कहा, जैश को पाकिस्तान से मिली छूट से हुआ पुलवामा हमला

गौरतलब है कि 14 फरवरी को आतंकवादी संगठन जैश-ए-मोहम्मद ने पुलवामा में सीआरपीएफ के काफिले पर आत्मघाती हमला किया था जिसमें 40 जवान शहीद हो गए।

वुझेन (चीन)। विदेश मंत्री सुषमा स्वराज ने बुधवार को चीन के विदेश मंत्री वांग यी के साथ मुलाकात में जम्मू-कश्मीर के पुलवामा जिले के आतंकवादी हमले का मुद्दा उठाते हुए कहा कि यह पाकिस्तान की ओर से जैश-ए-मोहम्मद और उसके नेताओं को मिलने वाली ‘‘छूट और आड़’’ का सीधा नतीजा है। भारत ने एक दिन पहले ही पाकिस्तान में जैश-ए-मोहम्मद के एक प्रमुख आतंकवादी शिविर को तबाह किया। पाकिस्तान का निकट सहयोगी चीन जैश के प्रमुख मसूद अजहर को संयुक्त राष्ट्र में वैश्विक आतंकवादी करार देने के भारत के प्रयासों को बार बार नाकाम कर चुका है। वांग के साथ सुषमा की यह बैठक इस पृष्ठभूमि में और भी अहम हो जाती है। उल्लेखनीय है कि जैश-ए-मोहम्मद का नाम पहले से ही प्रतिबंधित आतंकवादी संगठनों की संयुक्त राष्ट्र की सूची में दर्ज है।

भारत ने खुद से 2009 में अजहर को वैश्विक आतंकवादी करार देने का प्रस्ताव पेश किया था। इसके बाद भारत ने 2016 में अजहर को प्रतिबंधित करने के लिए पी3 - अमेरिका, ब्रिटेन और फ्रांस - के साथ संयुक्त राष्ट्र की 1267 प्रतिबंध समिति में फिर से प्रस्ताव पेश किया। अजहर जनवरी 2016 के पठानकोट वायुठिकाने पर हमला का सरगना भी था।इसके बाद, 2017 में पी3 देशों ने इसी तरह का एक प्रस्ताव पेश किया था। बहरहाल, हर बार चीन ने अजहर पर भारत के प्रस्ताव को ब्लॉक कर दिया। रूस-भारत-चीन के विदेश मंत्रियों की बैठक से इतर हुई इस मुलाकात के दौरान स्वराज ने कहा, ‘‘मैं ऐसे वक्त में चीन आई हूं जब भारत में शोक और गुस्से का माहौल है। यह जम्मू-कश्मीर में हमारे सुरक्षा बलों के खिलाफ सबसे भीषण हमला था।’’ उन्होंने कहा, ‘‘यह हमला पाकिस्तान स्थित और समर्थित संगठन जैश-ए-मोहम्मद ने किया है।’’

इसे भी पढ़ें: भारत और पाकिस्तान के बीच तनाव जारी, जानें दिन भर की बड़ी हलचल

गौरतलब है कि 14 फरवरी को आतंकवादी संगठन जैश-ए-मोहम्मद ने पुलवामा में सीआरपीएफ के काफिले पर आत्मघाती हमला किया था जिसमें 40 जवान शहीद हो गए। इससे देश में गम और गुस्से की लहर फैल गई। अंतरराष्ट्रीय स्तर पर इसकी निंदा की गई। इस घटना के बाद मंगलवार को तड़के भारत ने बड़ी कार्रवाई करते हुए नियंत्रण रेखा से करीब 80 किलोमीटर दूर पाकिस्तान के अशांत खैबर पख्तूनख्वा प्रांत के बालाकोट में जैश-ए-मोहम्मद के सबसे बड़े प्रशिक्षण शिविर को तबाह कर दिया जिसमें ‘‘बहुत बड़ी संख्या में’’ आतंकवादी, प्रशिक्षक और वरिष्ठ कमांडर मारे गए। स्वराज ने रेखांकित किया कि जैश-ए-मोहम्मद संयुक्त राष्ट्र और अन्य देशों द्वारा प्रतिबंधित संगठन है। उन्होंने वांग से कहा कि ‘‘यह आतंकवादी हमला पाकिस्तान की ओर से जैश-ए-मोहम्मद और उसके नेताओं को मिलने वाली छूट तथा आड़ का सीधा परिणाम था।’’ उन्होंने कहा, ‘‘पुलवामा हमले के बाद पूरे संयुक्त राष्ट्र ने समवेत स्वर में इसकी निंदा की।’’





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।

Prabhasakshi logoखबरें और भी हैं...

राष्ट्रीय

झरोखे से...