सरकार के खिलाफ किसानों-युवाओं में असंतोष, येचुरी बोले- उपजी गुस्से की सुनामी

By प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क | Publish Date: Jan 17 2019 1:00PM
सरकार के खिलाफ किसानों-युवाओं में असंतोष, येचुरी बोले- उपजी गुस्से की सुनामी

माकपा के महासचिव सीताराम येचुरी ने रोजगार के अवसर कम होने और फसल बीमा योजना का लाभ किसानों के बजाय निजी कंपनियों को मिलने संबंधी रिपोर्टों का हवाला देते हुये केन्द्र सरकार के खिलाफ बढ़ते असंतोष को लोगों के गुस्से की ‘सुनामी’ करार दिया।

नयी दिल्ली। माकपा ने कृषि संकट से किसानों और बेरोजगारी बढ़ने के कारण युवाओं में लगातार फैल रहे असंतोष के लिये केन्द्र की मोदी सरकार को जिम्मेदार ठहराया है। माकपा के महासचिव सीताराम येचुरी ने रोजगार के अवसर कम होने और फसल बीमा योजना का लाभ किसानों के बजाय निजी कंपनियों को मिलने संबंधी रिपोर्टों का हवाला देते हुये केन्द्र सरकार के खिलाफ बढ़ते असंतोष को लोगों के गुस्से की ‘सुनामी’ करार दिया। येचुरी ने बृहस्पतिवार को ट्वीट कर कहा कि सरकार के खिलाफ लोगों के गुस्से की सूनामी लगातार बढ़ रही है, जिसकी वजह लोगों की जिंदगी और आजीविका, खासकर युवाओं के प्रति मोदी सरकार का उदासीन रवैया है।

इसे भी पढ़ें : माकपा-कांग्रेस के बीच गठबंधन को लेकर बोले येचुरी, राज्य स्तर से शुरू होगी बातचीत



फसल बीमा योजना का लाभ किसानों को नहीं मिलने के बारे में येचुरी ने कहा कि मोदी सरकार की इस महत्वाकांक्षी योजना के होते हुये किसान सरकार की गलत नीतियों के खिलाफ विरोध प्रदर्शन कर रहे हैं, वहीं निजी बीमा कंपनियां इस योजना से लाभ कमा रही हैं और सार्वजनिक क्षेत्र की कंपनियों को नुकसान उठाना पड़ रहा है। अपने करीबी पूंजीपतियों को लाभ पहुंचाने का मोदी का गुजरात मॉडल पूरी तरह से उजागर हो गया है। येचुरी ने कहा कि किसानों को मोदी सरकार ने जानबूझ कर नुकसान में पहुंचाया है और अब यह सरकार कितने भी जुमले और तमाशा कर ले, इस नुकसान की भरपायी मुमकिन नहीं है। उन्होंने कहा कि स्वतंत्र भारत के इतिहास में यह किसी सरकार का अब तक का सबसे उदासीन रवैया रहा है।

रहना है हर खबर से अपडेट तो तुरंत डाउनलोड करें प्रभासाक्षी एंड्रॉयड ऐप


Related Story

Related Video