दिल्ली में वैक्सीन की सप्लाई लगभग खत्म, रोकना पड़ेगा वैक्सीनेशन: मनीष सिसोदिया

दिल्ली में वैक्सीन की सप्लाई लगभग खत्म, रोकना पड़ेगा वैक्सीनेशन: मनीष सिसोदिया

केंद्र सरकार का दावा है कि वैक्सीनेशन अभियान में 21 जून से उल्लेखनीय तेजी आयी है और आठ दिनों में करीब 4.61 करोड़ खुराकें दी गयी हैं जो इराक (4.02 करोड़), कनाडा (3.77 करोड़), सऊदी अरब (3.48 करोड़) और मलेशिया (3.23 करोड़) की आबादी से भी अधिक है।

कोरोना वैक्सीन को लेकर दिल्ली में एक बार फिर से टकराव की स्थिति देखने को निल सकती है। दिल्ली के उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया ने दावा किया कि वैक्सीन की सप्लाई दिल्ली में लगभग खत्म है, कल के बाद अधिकतर सेंटर में वैक्सीन नहीं होगी। उम्मीद करते हैं कि तब तक जुलाई का कोटा आ जाए नहीं तो हमें वैक्सीनेशन रोकना पड़ेगा। दरअसल, मनीष सिसोदिया खिचड़ीपुर में डिलीवरी वर्कर्स के लिए चलाए जा रहे वैक्सीनेशन सेंटर का जायज़ा लेने पहुंचे थे। उन्होंने कहा कि डिलीवरी वर्कर्स दिल्ली के लिए अहम हिस्सा है इसलिए उनके लिए हमने आज 4 वैक्सीनेशन सेंटर शुरू किया है।

दूसरी ओर केंद्र सरकार का दावा है कि वैक्सीनेशन अभियान में 21 जून से उल्लेखनीय तेजी आयी है और आठ दिनों में करीब 4.61 करोड़ खुराकें दी गयी हैं जो इराक (4.02 करोड़), कनाडा (3.77 करोड़), सऊदी अरब (3.48 करोड़) और मलेशिया (3.23 करोड़) की आबादी से भी अधिक है। स्वास्थ्य मंत्रालय के संयुक्त सचिव लव अग्रवाल ने एक संवाददाता सम्मेलन में बताया कि औसतन प्रतिदिन 57.68 लाख खुराकें दी गयीं जो फिनलैंड (55.41 लाख), नॉर्वे (54.21 लाख) और न्यूजीलैंड (48.22 लाख) की आबादी से अधिक है। देश में 21 जून से प्रभावी कोविड-19 टीकाकरण के नए संशोधित दिशानिर्देश के मुताबिक केंद्र देश में निर्मित 75 प्रतिशत टीका खरीदेगा। नए दिशानिर्देश के अनुसार, टीका निर्माताओं द्वारा उत्पादन को प्रोत्साहित करने और नए टीकों को प्रोत्साहित करने के लिए घरेलू टीका निर्माताओं को भी निजी अस्पतालों को सीधे टीके उपलब्ध कराने का विकल्प दिया गया है। यह उनके मासिक उत्पादन का 25 प्रतिशत होगा। 





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।