पुलवामा मामले में केवल निंदा नहीं बल्कि उन्हें सही सबक सिखाना पड़ेगा: वेंकैया नायडू

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  फरवरी 16, 2019   19:55
पुलवामा मामले में केवल निंदा नहीं बल्कि उन्हें सही सबक सिखाना पड़ेगा: वेंकैया नायडू

कुम्भ मेले में अक्षयवट पंडाल में आयोजित युवा कुम्भ सम्मेलन को संबोधित करते हुए नायडू ने कहा कि आपने देखा कि कल पड़ोसी देश समर्थित आतंकवादियों ने हमारे जवानों पर हमला किया।

प्रयागराज। कश्मीर के पुलवामा में आतंकी हमले में शहीद हुए केंद्रीय रिजर्व पुलिस बल के जवानों के प्रति संवेदना व्यक्त करते हुए उप राष्ट्रपति वेंकैया नायडू ने शनिवार को यहां कहा कि इस घटना की दुनियाभर में निंदा हो रही है, लेकिन केवल निंदा से काम नहीं चलेगा, बल्कि उन्हें सही सबक भी सिखाना पड़ेगा। कुम्भ मेले में अक्षयवट पंडाल में आयोजित युवा कुम्भ सम्मेलन को संबोधित करते हुए नायडू ने कहा, "आपने देखा कि कल पड़ोसी देश समर्थित आतंकवादियों ने हमारे जवानों पर हमला किया। पूरी दुनिया के लोग उसकी निंदा कर रहे हैं। केवल निंदा से काम नहीं चलेगा, बल्कि उनको सही सबक सिखाना पड़ेगा।" 

इसे भी पढ़ें: पुलवामा के बाद अब LoC पर बैट हमले में मेजर शहीद, 4 जवान जख्मी

उप राष्ट्रपति ने कहा, "हमें विश्वास है कि हमारे फौजी सही समय पर उन्हें सबक सिखाएंगे। हम सबके साथ मिलकर रहना चाहते हैं। हम वसुधैव कुटुंबकम की सोच रखने वाले शांति प्रिय लोग हैं। एक जमाने में विश्व गुरू रहे भारत ने कभी किसी देश पर आक्रमण नहीं किया। यह हमारी विशेषता है।" उन्होंने कहा, "लेकिन हमें अपनी एकता और अखंडता की रक्षा करनी है। हमें मुश्किल घड़ी में एकजुट रहना होगा। मैं देश के लोगों खासकर युवा पीढ़ी से देश की सेना के साथ खड़े रहने की अपील करता हूं। हमारे सैनिक अपना परिवार छोड़कर चौबीसों घंटे हमारी रक्षा के लिए तैनात रहते हैं।" 

इसे भी पढ़ें: राजनाथ सिंह के आवास पर अजित डोभाल समेत खुफिया एजेंसियों के साथ चल रही बैठक

कुम्भ मेले में आए उप राष्ट्रपति ने गंगा का पूजन किया और अक्षयवट और सरस्वती कूप का दर्शन किया। इसके बाद उन्होंने लेटे हुए हनुमान जी का दर्शन किया। नायडू के साथ उत्तर प्रदेश के राज्यपाल राम नाईक और स्वास्थ्य मंत्री सिद्धार्थ नाथ सिंह भी थे।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।