विश्वनाथ मंदिर के पट आज से आंशिक या लम्बे समय के लिए रहेंगे बंद

विश्वनाथ मंदिर के पट आज से आंशिक या लम्बे समय के लिए रहेंगे बंद

वाराणसी में बाबा दरबार से गंगधार तक विस्तारित श्रीकाशी विश्वनाथ धाम कारिडोर का 13 दिसंबर को प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी लोकार्पण करेंगे। इसे ध्यान में रखते हुए 10 दिसंबर तक संपूर्ण कार्य पूरा कर लिया जाना है।

आप यदि बाबा भोलेनाथ की नगरी काशी जाकर  बाबा भोले नाथ के दर्शन के लिए वाराणसी जाने का प्रोग्राम बना रहे हैं तो जरा सोच-समझ कर बनाएं आज से अगले तीन दिनों तक मंदिर के पट आंशिक या लम्बे समय के लिए बंद रहेंगे।इसी क्रम में श्रीकाशी विश्वनाथ मंदिर के पट आज सोमवार सुबह छह बजे 12 घंटे के लिए बंद कर दिए गए। शाम छह बजे मंदिर के पट खुलेंगे और रात 11 बजे शयन आरती तक झांकी दर्शन किया जा सकेगा। पट बंद करने का सिलसिला ऐ दिसंबर तक चलेगा. 30 नवंबर और 01 दिसंबर को भी आंशिक रूप में पट बंद किए जाएंगे।

इसे भी पढ़ें: माँ गंगा की आरती देखने बनारस पहुँचे बॉलीवुड स्टार अहान शेट्टी और तारा सुतरिया

गौरतलब हो, वाराणसी में बाबा दरबार से गंगधार तक विस्तारित श्रीकाशी विश्वनाथ धाम कारिडोर का 13 दिसंबर को प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी लोकार्पण करेंगे। इसे ध्यान में रखते हुए 10 दिसंबर तक संपूर्ण कार्य पूरा कर लिया जाना है। इस खास मौके पर बाबा दरबार की साज-सज्जा के लिए श्रीकाशी विश्वनाथ मंदिर के पट बंद किए जा रहे हैं.कल 30 नवंबर को सुबह छह से शाम छह बजे श्रद्धालु दर्शन-पूजन के लिए मंदिर में प्रवेश नहीं पाएंगे। वहीं 30 नवंबर की रात शयन आरती के बाद मंदिर के पट श्रद्धालुओं के लिए बंद होंगे तो दो दिसंबर को सुबह छह बजे ही दर्शन-पूजन का मौका मिल पाएगा। कारण यह कि एक दिसंबर को मंदिर पूरी तरह बंद रहेगा। अगले दिन दो दिसंबर को सुबह छह बजे श्रद्धालुओं के लिए पट खुलेंगे। श्रीकाशी विश्वनाथ मंदिर व विशिष्ट क्षेत्र विकास परिषद के मुख्य कार्यपालक अधिकारी सुनील कुमार वर्मा की ओर से इस संबंध में जारी समय सारणी के अनुसार 29 -30 नवंबर व दो दिसंबर को आंशिक व एक दिसंबर को पूरी तरह मंदिर के पट बंद रहेंगे। दो दिसंबर को सुबह छह बजे से दर्शन-पूजन पूर्ववत शुरू हो पाएगा।





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।