योगेंद्र यादव को मृतक बीजेपी कार्यकर्ता के परिजनों से मिलने की मिली सजा, संयुक्त किसान मोर्चा ने किया सस्पेंड

योगेंद्र यादव को मृतक बीजेपी कार्यकर्ता के परिजनों से मिलने की मिली सजा, संयुक्त किसान मोर्चा ने किया सस्पेंड

सूत्रों ने दावा किया कि योगेंद्र यादव ने इस बात के लिए खेद भी जताया था कि उन्होंने लखीमपुर खीरी में मारे गए भाजपा कार्यकर्ता के घर जाने से पहले संयुक्त किसान मोर्चा के अन्य नेताओं से राय नहीं ली थी।

किसान नेता योगेंद्र यादव को संयुक्त किसान मोर्चा ने 1 महीने के लिए निलंबित कर दिया है। दरअसल, योगेंद्र यादव ने लखीमपुर खीरी हिंसा में मारे गए बीजेपी कार्यकर्ता शुभम मिश्रा के परिजनों से मुलाकात की थी। योगेंद्र यादव शुभम मिश्रा के घर पहुंचे थे और परिजनों से मुलाकात करने के बाद अपनी संवेदना प्रकट की थी। इसी के कारण संयुक्त किसान मोर्चा नाराज हो गया और योगेंद्र यादव के खिलाफ यह कार्रवाई की गई। योगेंद्र यादव के खिलाफ कार्यवाही के लिए पंजाब के किसान संगठनों ने मांग की थी जिसके बाद गुरुवार शाम संयुक्त किसान मोर्चा की बैठक के बाद यह फैसला लिया गया।

सूत्रों ने दावा किया कि योगेंद्र यादव ने इस बात के लिए खेद भी जताया था कि उन्होंने लखीमपुर खीरी में मारे गए भाजपा कार्यकर्ता के घर जाने से पहले संयुक्त किसान मोर्चा के अन्य नेताओं से राय नहीं ली थी। हालांकि योगेंद्र यादव ने इसके लिए माफी नहीं मांगी। योगेंद्र यादव का मानना है कि उन्होंने मारे गए किसानों के परिजनों से मुलाकात के साथ-साथ मारे गए भाजपा कार्यकर्ता के शोकाकुल परिवार से मिलकर कुछ गलत नहीं किया है। पीड़ित परिवारों में भेदभाव नहीं किया जाना चाहिए। दूसरी ओर किसान नेताओं का मानना है कि योगेंद्र यादव ने भाजपा कार्यकर्ता के घर जाकर मृत्य किसानों का अपमान किया है। 

इसे भी पढ़ें: लखीमपुर हिंसा : भाजपा कार्यकर्ता के घर जाने पर एसकेएम ने योगेन्द्र यादव को निलंबित किया

आपको बता दें कि लखीमपुर खीरी में हुई हिंसा के दौरान 4 किसान और कई भाजपा कार्यकर्ता मारे गए। माना जा रहा है कि इसी दौरान प्रदर्शनकारियों ने भाजपा कार्यकर्ता की पीट-पीटकर हत्या कर दी थी। योगेंद्र यादव का यह कदम पंजाब के किसानों को पसंद नहीं आया। लखीमपुर हिंसा के बाद से लगातार राजनीति जारी है। किसान संगठन लगातार केंद्रीय मंत्री अजय मिश्रा को पद से हटाने की मांग कर रहे हैं। हालांकि इस मामले को लेकर फिलहाल कार्यवाही जारी है। 





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।