पश्चिमी यूपी में गरजे योगी, कैराना-मुजफ्फरनगर में दिख रही गर्मी शांत हो जाएगी, मैं मई और जून में भी शिमला बना देता हूं

yogi adityanath
अंकित सिंह । Jan 30, 2022 7:45PM
जाहिर सी बात है कि योगी आदित्यनाथ के इस बयान से उत्तर प्रदेश की राजनीतिक कड़ाके की ठंड में भी गर्म हो सकती है। योगी आदित्यनाथ ने पश्चिमी यूपी में वोटों को साधते हुए विपक्ष पर बड़ा हमला किया है।

उत्तर प्रदेश चुनाव को लेकर प्रचार अपने चरम पर है। पश्चिमी उत्तर प्रदेश में भाजपा ने पूरी ताकत झोंक रखी है। इन सब के बीच आज योगी आदित्यनाथ हापुड़ दौरे पर थे। हापुड़ में उन्होंने कैराना और मुजफ्फरनगर को लेकर बड़ा बयान दिया है। हापुड़ के पिलखुवा में आयोजित मतदाता सम्मेलन में योगी आदित्यनाथ ने इशारों-इशारों में विपक्षियों पर जोरदार हमला किया। उन्होंने कहा कि यह गर्मी जो अभी कैराना और मुजफ्फरनगर में कुछ जगह दिखाई दे रही है ना, यह सब शांत हो जाएगी क्योंकि गर्मी कैसे शांत होगी... मैं मई और जून में भी इसको शिमला बना देता हूं। उन्होंने कहा कि ये जो अभी अपने बिलों से निकलकर बिलबिला रहे हैं न, 10 मार्च के बाद गले में तख्ती डालकर चलते नजर आएंगे।

जाहिर सी बात है कि योगी आदित्यनाथ के इस बयान से उत्तर प्रदेश की राजनीतिक कड़ाके की ठंड में भी गर्म हो सकती है। योगी आदित्यनाथ ने पश्चिमी यूपी में वोटों को साधते हुए विपक्ष पर बड़ा हमला किया है। अपने संबोधन में योगी ने काह कि आज फिर से दो लड़कों की जोड़ी दंगा कराने की मंशा से आई है। लोक कल्याण, ग़रीब कल्याण से इनका कोई लेना-देना नहीं है। विकास, सुशासन का कोई विकल्प नहीं हो सकता है। सरकार के पास हर समस्या का समाधान होना चाहिए। सपा-बसपा की सरकार सिर्फ अंधेरा देती थी। 

इसे भी पढ़ें: UP Election 2022 | राजनाथ का तंज, जो अपनी विरासत नहीं संभाल सकते, उनकी हालत कटी पतंग जैसी

इससे पहले योगी आदित्यनाथ ने समाजवादी पार्टी पर निशाना साधते हुए आरोप लगाया कि सपा की ‘लाल टोपी’ मुजफ्फरनगर दंगों के पीड़ितों और अयोध्या में मारे गए राम भक्तों के खून से सनी हुई है। योगी ने कहा कि समाजवादी पार्टी की लाल टोपी मुजफ्फरनगर दंगों के पीड़ितों और अयोध्या में राम भक्तों के खून से रंगी हुई है। उनकी सरकार ने आम आदमी की रक्षा और सुरक्षा की भावना पैदा करने के लिए काम किया, साथ ही यह सुनिश्चित करने का भी प्रयास किया कि‘‘अपराधी डर महसूस करें। 

नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।

अन्य न्यूज़