बाटला मुठभेड़ मामला कांग्रेस के लिए बोतल में बंद जिन्न है, कभी ढक्कन दिग्विजय खोलते हैं तो कभी तौकीर रजा

बाटला मुठभेड़ मामला कांग्रेस के लिए बोतल में बंद जिन्न है, कभी ढक्कन दिग्विजय खोलते हैं तो कभी तौकीर रजा

तौकीर रजा खां ने जो बयान दिया है उससे कांग्रेस को कितना सियासी फायदा होगा या नुकसान यह तो समय ही बतायेगा लेकिन शहीद मोहन चंद शर्मा की शहादत का अपमान करके तौकीर रजा खां ने अक्षम्य अपराध किया है।

उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनावों से पहले बाटला हाउस मुठभेड़ का मुद्दा एक बार फिर गरमा गया है। इस मुद्दे को उठाते हुए बरेलवी मुसलमानों के धार्मिक गुरु और इत्तेहाद-ए-मिल्लत काउंसिल (आईएमसी) के अध्यक्ष मौलाना तौकीर रजा खां ने कहा है कि बाटला हाउस मुठभेड़ में मारे गये युवक आतंकवादी नहीं बल्कि शहीद थे। यही नहीं उन्होंने शहीद इंस्पेक्टर मोहन चंद शर्मा के बारे में कह दिया कि पुलिस ने उनकी हत्या की थी। तौकीर रजा खां ने जो बयान दिया है उससे कांग्रेस को कितना सियासी फायदा होगा या नुकसान यह तो समय ही बतायेगा लेकिन शहीद मोहन चंद शर्मा की शहादत का अपमान करके तौकीर रजा खां ने अक्षम्य अपराध किया है। धर्म की आड़ में सियासत कर रहे लोगों को यह समझना होगा कि जब कोई जवान शहादत देता है तो यह शहादत सिर्फ उस व्यक्ति ने नहीं दी होती। शहादत उनके परिवारों ने भी दी होती है।

तौकीर रजा खां आज कह रहे हैं कि इंस्पेक्टर मोहन चंद शर्मा को पुलिसवालों ने मारा तो उन्हें यह पता होना चाहिए कि 26 जनवरी 2009 को गणतंत्र दिवस पर देश के वीरता पुरस्कार अशोक चक्र से जब मरणोपरांत स्वर्गीय मोहन चंद शर्मा को नवाजा जा रहा था तो उनके बारे में कहा गया था, ''श्री मोहन चन्द शर्मा, इन्सपेक्टर, दिल्ली पुलिस को 19 सितम्बर 2008 को एक खास सूचना मिली कि दिल्ली श्रृंखलाबद्ध बम धमाकों के संबंध में वांछित एक संदिग्ध व्यक्ति जामिया नगर, दक्षिणी दिल्ली क्षेत्र में स्थित बटला हाउस के एक फ्लैट में छिपा हुआ है। श्री शर्मा सात सदस्यीय दल का नेतृत्व करते हुये तुरंत उस फ्लैट पर पहुंचे। ज्यों ही उन्होंने फ्लैट में अन्य दरवाजे से प्रवेश किया, उनको फ्लैट के अंदर छुपे हुये आतंकवादियों की ओर से गोलीबारी का पहली बौछार लगी। निर्भीकता के साथ उन्होंने गोलीबारी का जवाब दिया। इस प्रकार शुरू हुई दोनों तरफ की गोलीबारी में दो आतंकवादी मारे गये तथा एक पकड़ा गया। श्री मोहन चन्द शर्मा ने आतंकवादियों से लड़ते हुये अनुकरणीय साहस और कर्तव्यपरायणता का प्रदर्शन किया तथा राष्ट्र के लिए सर्वोच्च बलिदान दिया।''

इसे भी पढ़ें: हिंदुओं के खिलाफ विवादित बयान देने वाले मौलाना ने कांग्रेस से किया गठबंधन, संबित पात्रा बोले- धिक्कार है

जहां तक बाटला मुठभेड़ मामले की बात है तो कांग्रेस ने इसे 'बोतल में बंद जिन्न' की तरह रखा हुआ है। कांग्रेस कभी इस बोतल का ढक्कन दिग्विजय सिंह से खुलवाती है तो कभी तौकीर रजा खां जैसे लोगों से। जनता यह जानना चाहती है कि जिस बाटला मुठभेड़ को तत्कालीन सरकार के अलावा तत्कालीन राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार एमके नारायणन और राष्ट्रीय मानवाधिकार आयोग ने असली बताया हो और अदालतों ने जिसकी जांच की मांग खारिज कर दी हो, उसके ‘फर्जी’ होने की बात कांग्रेस और उसके समर्थक नेता या मौलवी आखिर किस विशेषज्ञता के आधार पर कह रहे हैं? तौकीर रजा खां ने उत्तर प्रदेश और पंजाब समेत पांच राज्यों के विधानसभा चुनावों में कांग्रेस प्रत्याशियों के समर्थन का ऐलान किया है इसलिए उनके बयानों पर कांग्रेस को अपना रुख स्पष्ट करना ही होगा। अपने धार्मिक भाषणों से ज्यादा विवादित बयान देने के लिए मशहूर मौलाना तौकीर रजा खां कई बार हिंदुओं के खिलाफ बयानबाजी कर चुके हैं और नफरती भाषण देते रहे हैं इसलिए चुनावों के समय उनके विवादित बयानों पर चुनाव आयोग को भी संज्ञान लेना चाहिए।

जहाँ तक विवादित लोगों और संदिग्ध संगठनों से कांग्रेस के प्रेम का इतिहास है तो आपको बता दें कि वर्तमान कांग्रेस नेतृत्व ने अनुभवी नेताओं की बार-बार चेतावनी के बावजूद पश्चिम बंगाल में इंडियन सेक्युलर फ्रंट (ISF) और असम में एआईयूडीएफ (AIUDF) जैसे साम्प्रदायिक दलों से गठबंधन किया था। यही नहीं केरल में भी जमात-ए-इस्लामी के राजनीतिक मोर्चे वेलफेयर पार्टी ऑफ इंडिया के साथ कांग्रेस ने निकाय चुनावों में समझौता कर सबको चौंका दिया था। सत्ता पाने की बेताबी में कांग्रेस ने आईएसएफ, एआईयूडीएफ और वेलफेयर पार्टी से गठबंधन कर इन्हें धर्मनिरपेक्ष दल होने का तमगा प्रदान करने में एक पल की भी देरी नहीं लगाई थी लेकिन चुनाव परिणाम दर्शाते हैं कि कांग्रेस को ऐसे दलों से गठबंधन का कोई फायदा नहीं हुआ। यहाँ यह भ काबिलेगौर है कि चुनावों से पहले तो कांग्रेस ऐसे लोगों का साथ ले लेती है लेकिन चुनावों के बाद इन्हें बाहर का रास्ता भी दिखा देती है। विधानसभा चुनावों के बाद कांग्रेस ने पश्चिम बंगाल में इंडियन सेक्युलर फ्रंट, असम में एआईयूडीएफ और केरल में वेलफेयर पार्टी से पीछा छुड़ा लिया था। ऐसे में अब देखना होगा कि तौकीर रजा खां को कब तक कांग्रेस अपने साथ रखती है।

-नीरज कुमार दुबे