ममता बनर्जी से स्वरा भास्कर ने की मुलाकात, कहा- देशद्रोह के आरोपों को तो 'प्रसाद' की तरह बांटा जा रहा

ममता बनर्जी से स्वरा भास्कर ने की मुलाकात, कहा- देशद्रोह के आरोपों को तो 'प्रसाद' की तरह बांटा जा रहा

अभिनेत्री स्वरा भास्कर ने बुधवार को यहां पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी से मुलाकात के दौरान कहा कि कलाकारों को कहानियां प्रस्तुत करना मुश्किल हो रहा है और आरोप लगाया कि सरकार देशद्रोह कानून और यूएपीए प्रावधानों का अंधाधुंध इस्तेमाल कर रही है।

मुंबई। अभिनेत्री स्वरा भास्कर अकसर अपने बेबाक बयानों को लेकर सोशल मीडिया पर ट्रोलिंग का शिकार हो जाती हैं। फिल्मी दुनिया के साथ साथ एक्ट्रेस राजनीतिक मुद्दों पर भी अपनी राय रखती हैं। दिल्ली विधानसभा चुनाव के दौरान स्वरा भास्कर ने दिल्ली की आम आदमी पार्टी की सरकार के लिए चुनाव प्रचार भी किया था। हाल ही में अभिनेत्री स्वरा भास्कर ने पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी से भी मुलाकाल की और राजनीतिक मुद्दों पर बात की। कलाकार ने फिल्मी दुनिया के लोगों पर सरकार के कठोर रवैये पर भी बात की।

इसे भी पढ़ें: आलीशान ज़िंदगी जीते हैं बॉलीवुड के शहंशाह, लेकिन मुफलिसी में है उनका ये परिवार

 

अभिनेत्री स्वरा भास्कर ने बुधवार को यहां पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी से मुलाकात के दौरान कहा कि कलाकारों को कहानियां प्रस्तुत करना मुश्किल हो रहा है और आरोप लगाया कि सरकार देशद्रोह कानून और यूएपीए प्रावधानों का अंधाधुंध इस्तेमाल कर रही है। बनर्जी ने तीन दिवसीय मुंबई दौरे के दौरान बुधवार को नागरिक समाज के सदस्यों के साथ बातचीत की। भास्कर ने कहा, एक राज्य है, जो यूएपीए (गैरकानूनी गतिविधियां रोकथाम अधिनियम) और देशद्रोह के आरोपों को भगवान के प्रसाद की तरह बांट रहा है।

इसे भी पढ़ें: सिद्धार्थ शुक्ला की मौत के सदमे से बाहर निकलने के लिए अनाथ बच्चों के साथ वक्त बिता रही है शहनाज गिल, देखें वीडियो

सोशल मीडिया पर राजनीतिक और सामाजिक मुद्दों को लेकर बेबाकी से अपनी बात रखने वाली अभिनेत्री ने कहा, कलाकारों को आज कहानियां सुनाने में बहुत प्रतिरोध का सामना करना पड़ रहा है। ऐसे कई लोग हैं जिन्होंने प्रतिरोध को जीवित रखने के लिए अपनी आजीविका और करियर को जोखिम में डाला है। उन्होंने कहा कि दक्षिणपंथी समूहों ने हास्य कलाकार मुनव्वर फारूकी, अदिति मित्तल, अग्रिमा जोशुआ को निशाना बनाया जबकि फारूकी ने एक महीने जेल में (कथित रूप से धार्मिक भावनाओं को आहत करने के लिए) बिताया है। भास्कर ने आरोप लगाया कि आम नागरिकों को एक गैर जिम्मेदाराना-भीड़ का सामना करना पड़ रहा है, जिसका इस्तेमाल सत्तारूढ़ सरकार द्वारा किया जा रहा है जबकि पुलिस और राज्य इसे खुली छूट दे रहे हैं। वहीं ममता बनर्जी ने कहा कि यूएपीए का घोर दुरुपयोग किया गया है। उन्होंने कहा, यूएपीए आम नागरिकों के लिए नहीं बल्कि बाहरी ताकतों से बचाव और आंतरिक सुरक्षा के लिए है।






Prabhasakshi logoखबरें और भी हैं...

मनोरंजन जगत

झरोखे से...