5जी स्पेक्ट्रम नीलामी चौथे दिन भी रहेगी जारी, अबतक 1,49,623 करोड़ रुपये की बोलियां प्राप्त

5G Spectrum
Creative Common Licences.
मुकेश अंबानी की रिलायंस जियो, सुनील भारती मित्तल की भारती एयरटेल, वोडाफोन आइडिया तथा गौतम अडाणी की प्रमुख कंपनी अडाणी एंटाप्राइेज की इकाई 5जी स्पेक्ट्रम हासिल करने की दौड़ में शामिल हैं।

नयी दिल्ली|  देश में उच्च गति की इंटरनेट सेवा देने के लिये पांचवीं पीढ़ी (5जी) के स्पेक्ट्रम की नीलामी शुक्रवार को चौथे दिन भी जारी रहेगी। अबतक 16 दौर में कुल 1,46,623 करोड़ रुपये की बोलियां आई हैं।

मुकेश अंबानी की रिलायंस जियो, सुनील भारती मित्तल की भारती एयरटेल, वोडाफोन आइडिया तथा गौतम अडाणी की प्रमुख कंपनी अडाणी एंटाप्राइेज की इकाई 5जी स्पेक्ट्रम हासिल करने की दौड़ में शामिल हैं। दूरसंचार मंत्री अश्विनी वैष्णव ने कहा कि तीन दिन में 16 दौर की बोली संपन्न हुई है। नीलामी शुक्रवार को जारी रहेगी।

उन्होंने कहा कि नीलामी का तीसरा दिन समाप्त होने तक कुल 1,49,623 करोड़ रुपये की बोलियां मिली हैं। यह नीलामी के दूसरे दिन बुधवार को नौवें दौर की बोली के बाद प्राप्त 1,49,454 करोड़ रुपये से मामूली अधिक है।

वैष्णव ने कहा कि विभिन्न बैंड में कंपनियों ने रूचि दिखायी है और उद्योग उद्योग दूरसंचार सेवाओं को गांवों तक ले जाने को प्रतिबद्ध है। बोली के तहत कम-से-कम 4.3 लाख करोड़ रुपये मूल्य के कुल 72 गीगाहर्ट्ज रेडियो तरंगों को रखा गया है।

नीलामी विभिन्न निम्न (600 मेगाहर्ट्ज, 700 मेगाहर्ट्ज, 800 मेगाहर्ट्ज, 900 मेगाहर्ट्ज, 1,800 मेगाहर्ट्ज, 2,100 मेगाहर्ट्ज, 2,300 मेगाहर्ट्ज), मध्यम (3,300 मेगाहर्ट्ज) और उच्च (26 गीगाहर्ट्ज़) आवृत्ति बैंड में स्पेक्ट्रम के लिए आयोजित की जा रही है। बोली के पहले दिन मंगलवार को चार दौर की नीलामी में 1.45 लाख करोड़ रुपये की बोली लगायी गयी थी।

बुधवार को पांच दौर की नीलामी में रेडियो तरंगों की अतिरिक्त मांग आई। सरकार ने कहा है कि नीलामी को लेकर प्रतिक्रिया उम्मीद से कहीं बेहतर है और 2015 के रिकॉर्ड स्तर को पार कर गया है। वर्ष 2015 में स्पेक्ट्रम नीलामी से 1.09 लाख करोड़ रुपये का रिकॉर्ड राजस्व मिला था।

प्रक्रिया के तहत नीलामी संपन्न होने तक यह नहीं पता चलेगा कि किस कंपनी को कितना स्पेक्ट्रम मिला। 5जी सेवाओं के आने से इंटरनेट की गति 4जी के मुकाबले करीब 10 गुना अधिक होगी।

इसमें इंटरनेट की गति इतनी होगी कि मोबाइल पर एक सिनेमा को कुछ सेकेंड में ही डाउनलोड किया जा सकेगा। साथ ही इससे ई-स्वास्थ्य, मेटावर्स, अत्याधुनिक मोबाइल क्लाउड गेमिंग समेत विभिन्न क्षेत्रों में क्रांतिकारी बदलाव आएंगे।

Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


अन्य न्यूज़