पर्यटन को बढ़ावा देने के लिए छत्तीसगढ़ पर्यटन मंडल और आईआरसीटीसी के बीच करार

Tourists
प्रतिरूप फोटो
Google Creative Commons
छत्तीसगढ़ में पर्यटन को बढ़ावा देने के लिए छत्तीसगढ़ पर्यटन मंडल और इंडियन रेलवे कैटरिंग एंड टूरिज्म कॉरपोरेशन (आईआरसीटीसी) के बीच सहमति ज्ञापन (एमओयू) पर हस्ताक्षर किए गए।

छत्तीसगढ़ में पर्यटन को बढ़ावा देने के लिए छत्तीसगढ़ पर्यटन मंडल और इंडियन रेलवे कैटरिंग एंड टूरिज्म कॉरपोरेशन (आईआरसीटीसी) के बीच सहमति ज्ञापन (एमओयू) पर हस्ताक्षर किए गए। जनसंपर्क विभाग के अधिकारियों ने मंगलवार को यह जानकारी दी। अधिकारियों ने बताया कि विश्व पर्यटन दिवस के अवसर पर रायपुर में आयोजित टूरिज्म कान्क्लेव के मौके पर मुख्यमंत्री भूपेश बघेल की उपस्थिति में छत्तीसगढ़ पर्यटन मंडल और आईआरसीटीसी के बीच एक एमओयू पर हस्ताक्षर किए गए।

उन्होंने बताया कि छत्तीसगढ़ के पर्यटन को तेजी से बढ़ाने के लिए यह एमओयू किया गया है। एमओयू के अंतर्गत आईआरसीटीसी अपने सोशल मीडिया मंच के माध्यम से छत्तीसगढ़ के पर्यटन स्थानों का प्रचार- प्रसार करेगा जिससे भारत के सभी राज्यों के पर्यटक छत्तीसगढ़ की तरफ आकर्षित होंगे। अधिकारियों ने बताया कि रायपुर में आयोजित टूरिज्म कान्क्लेव के अवसर पर मुख्यमंत्री बघेल ने छत्तीसगढ़ का मोगली कहे जाने वाले टाइगर ब्वाय चेंदरू की मूर्ति का अनावरण किया। इस मूर्ति में चेंदरू के साथ उसका टाइगर मित्र टेंबू भी है।

इस प्रतिमा के अनावरण के साथ ही पर्यटन मंडल ने चेंदरू और टेंबू टाइगर को स्मृति चिह्न के रूप में मुख्यमंत्री को भेंट दिया। पर्यटन मंडल पूरे देश में छत्तीसगढ़ के पर्यटन को बढ़ाने के लिए इस स्मृति चिह्न का प्रयोग करेगा। मुख्यमंत्री ने कहा ‘‘एक समय था जब छत्तीसगढ़ का नाम लेते हुए लोगों के जेहन में सिर्फ खनिज संसाधन और नक्सलियों का ख्याल आता था। लंबे समय तक छत्तीसगढ़ का पर्यटन उपेक्षित रहा और नया राज्य बनने के बाद भी पूरा ध्यान सिर्फ नक्सल समस्या पर ही था। जबकि छत्तीसगढ़ में इतना सब कुछ है कि सिर्फ प्रकृति से मिले उपहारों को ही हम व्यवस्थित कर लें तो यह स्थान पर्यटकों की पहली पसंद बन जाएगा। हमारी सरकार इसी बात पर निरंतर काम कर रही है।

Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


अन्य न्यूज़