एलन मस्क को गडकरी की दो टूक, भारत में नहीं चलेगी मेड इन चाइना टेस्ला कार, ट्विटर डील के बाद दिया ये खास ऑफर

एलन मस्क को गडकरी की दो टूक, भारत में नहीं चलेगी मेड इन चाइना टेस्ला कार, ट्विटर डील के बाद दिया ये खास ऑफर
ANI

रायसीना डायलॉग में नितिन गडकरी ने ये सारी बातें कही हैं। गडकरी ने कहा कि अगर एलन मस्क भारत में उत्पादन चाहते हैं तो हमारे पास सभी क्षमताएं और टेक्नोलॉजी हैं। लेकिन अगर वो उत्पादन चीन में करेंगे और भारत में बेचेंगे तो ये अच्छा प्रस्ताव नहीं है।

ट्वविटर डील के बाद एलन मस्क को केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी की तरफ से बड़ा ऑफर दिया गया है। गडकरी ने मस्क को भारत में टेस्ला कार का निर्माण करने की बात कही है। इसके साथ ही नितिन गडकरी ने साफ किया भारत में मेड इन चाइना टेस्ला कार नहीं चलेगी। रायसीना डायलॉग में नितिन गडकरी ने ये सारी बातें कही हैं। गडकरी ने कहा कि अगर एलन मस्क भारत में उत्पादन चाहते हैं तो हमारे पास सभी क्षमताएं और टेक्नोलॉजी हैं। लेकिन अगर वो उत्पादन चीन में करेंगे और भारत में बेचेंगे तो ये अच्छा प्रस्ताव नहीं है। 

इसे भी पढ़ें: नशे में आया आइडिया, 15 डॉलर में खरीदा लोगो, ट्विस्ट एंड टर्न से भरी है Twitter की कहानी, प्लेटफॉर्म पर क्या होंगे बदलाव

इससे पहले भी भारत की तरफ से टेस्ला को सलाह दी जाती रही है कि भारत में आकर पहले कार बनाए फिर किसी भी छूट पर विचार होगा। गडकरी बताते हैं कि मस्क ने अमेरिका के बाद चीन में टेस्ला की फैक्ट्री डाली है और चाहते हैं कि वहीं कार पूरी तरह से एसेंबल करने के बाद भारतीय बाजारों में बेचा जाए। लेकिन ऐसी संभव नहीं है, अगर उन्हें भारत में कार बेचनी है तो यहीं फैक्ट्री डालें, या फिर जितनी इंपोर्ट ड्यूटी है वो दे दें।  

इसे भी पढ़ें: Prabhasakshi Newsroom। Twitter के मालिक बने Elon Musk, 44 बिलियन डॉलर में बिक गई कंपनी

एलन मस्क की नजर भारत के इलेक्ट्रिक गाड़ियां के बाजार पर 

बता दें कि भारत सरकार का लक्ष्य है कि 2030 तक 30 प्रतिशत प्राइवेट व्हीकल और 70 प्रतिशत कमर्शिल व्हीकल, 40 प्रतिशत बसें और 80 प्रतिशत दोपहिया और तीन पहिया वाहनों को इलेक्ट्रिक कर दिया जाएगा। भारत में अभी इलेक्ट्रिक गाड़ियों के ज्यादा खरीदार नहीं हैं। पिछले साल भारत में कुल 24 लाख गाड़ियों की बिक्री हुई थी, जिनमें इलेक्ट्रिक गाड़ियां केवल पांच हजार थीं। लेकिन हाल ही में हुए एक सर्वे में देश के 35 प्रतिशत लोगों ने माना था कि वो अब इलेक्ट्रिक कार ही खरीदना चाहते हैं। इस लिहाज से भारत इलेक्ट्रिक गाड़ियों के लिए दुनिया का सबसे बड़ा बाजार बन सकता है। एलन मस्क की नजर इसी पर है।