भारत के छोटे शहरों से भी अब विदेश-यात्रा पर जाते हैं लोग, वीजा आवेदकों में बढ़ोतरी

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  फरवरी 25, 2019   11:54
भारत के छोटे शहरों से भी अब विदेश-यात्रा पर जाते हैं लोग, वीजा आवेदकों में बढ़ोतरी

कंपनी के अनुसार इन शहरों के अलावा जिन अन्य मझोले शहरों में सालाना आधार पर अच्छी वृद्धि दर्ज की गयी उसमें जालंधर (66 प्रतिशत), चंडीगढ़ (54 प्रतिशत), पुडेचेरी (43 प्रतिशत) तथा गोवा (45 प्रतिशत) शामिल हैं।

नयी दिल्ली। विदेश यात्रा अब बड़े शहरों के और गिने-चुने लोगों तक सीमित नहीं है। देश के छोटे एवं मझोले शहरों से विदेश यात्रा पर जाने वालों की संख्या में अच्छी खासी वृद्धि दर्ज की जा रही है। वीजा फार्म प्रसंस्करण सेवा देने वाली कंपनी वीएफएस ग्लोबल ने यह बात कही है। प्रमुख आउटसोर्सिंग और प्रौद्योगिकी सेवा कंपनी ने एक विज्ञप्ति में कहा कि भारत से विदेश जाने वालों की संख्या में बढ़ोतरी में मझोले शहरों का अच्छा खासा योगदान है। पिछले साल मुंबई, दिल्ली, हैदराबाद और बेंगलुरू के अलावा अहमदाबाद (32 प्रतिशत) और पुणे (20 प्रतिशत) में अच्छी वृद्धि देखी गयी।

इसे भी पढ़ें: वाइब्रेंट गुजरात सम्मेलन के दूसरे दिन हुए 21,300 से अधिक करार

कंपनी के अनुसार इन शहरों के अलावा जिन अन्य मझोले शहरों में सालाना आधार पर अच्छी वृद्धि दर्ज की गयी उसमें जालंधर (66 प्रतिशत), चंडीगढ़ (54 प्रतिशत), पुडेचेरी (43 प्रतिशत) तथा गोवा (45 प्रतिशत) शामिल हैं। वीएफएस ग्लोबल ने कहा कि भारत में पिछले साल 52.8 लाख वीजा आवेदनों का प्रसंस्करण किया गया जो इससे पिछले साल के मुकाबले 13 प्रतिशत अधिक है। हालांकि वैश्विक स्तर पर वीजा आवेदनों में 16 प्रतिशत बढ़ोतरी के मुकाबले यह कम है। वीएफएस ग्लोबल के क्षेत्रीय समूह के मुख्य परिचालन अधिकारी (पश्चिम एशिया, दक्षिण एशिया तथा चीन) विनय मल्होत्रा ने बयान में कहा, ‘‘भारत से हर साल वीजा आवेदनकर्ताओं की संख्या में बढ़ोतरी यह बताता है कि विदेश यात्रा अब केवल कुछ गिने-चुने लोगों तक सीमित नहीं है। इसमें भी वृद्धि का बड़ा हिस्सा छोटे शहरों से आ रहा है...।’’

इसे भी पढ़ें: रिजर्व बैंक के साथ बैठक में उद्योग जगत ने उठाई ब्याज दर कटौती की मांग

कंपनी के विदेश यात्रा के मामले में दक्षिण एशिया प्रमुख बाजार के रूप में उभरा है। ज्यादातर आवेदन इन्हीं क्षेत्रों से आये। संख्या के आधार पर देखा जाए तो वीएफएस ग्लोबल ने 2018 में 2.67 करोड़ आवेदनों का प्रसंस्करण किया जो पिछले साल के मुकाबले 16 प्रतिशत अधिक है। इसमें दक्षिण एशिया की हिस्सेदारी 58 लाख, पश्चिम एशिया की 44.7 प्रतिशत तथा चीन की हिस्सेदारी 44.6 लाख रही। कंपनी के अनुसार उभरते देशों में जापान, तुर्की, चेक गणराज्य तथा एस्तोनिया में वीजा आवेदनों की संख्या में पिछले साल उल्लेखनीय बढ़ोतरी दर्ज की गयी। वीएफएस ग्लोबल के भारत समेत 143 देशों में 2,997 आवेदन केंद्र हैं। भारत में इसके 17 शहरों में वीजा आवेदन केंद्र हैं। 





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।