डॉलर के दबदबे को समाप्त करने के लिए गोपीनाथ ने कही ये अहम बात

it-will-require-a-very-credible-challenger-to-displace-dollars-dominance-says-gita-gopinath
अंतरराष्ट्रीय मुद्राकोष की मुख्य अर्थशास्त्री गीता गोपीनाथ ने बृहस्पतिवार को कहा कि दुनिया में अमेरिकी डॉलर के दबदबे को समाप्त करने के लिये बहुत भरोसेमंद दावेदार और मजबूत मुद्रा की जरूरत होगी। इसका कारण डॉलर ने समय-समय पर यह साबित किया है कि वह बहुत स्थिर है।

दावोस। अंतरराष्ट्रीय मुद्राकोष की मुख्य अर्थशास्त्री गीता गोपीनाथ ने बृहस्पतिवार को कहा कि दुनिया में अमेरिकी डॉलर के दबदबे को समाप्त करने के लिये बहुत भरोसेमंद दावेदार और मजबूत मुद्रा की जरूरत होगी। इसका कारण डॉलर ने समय-समय पर यह साबित किया है कि वह बहुत स्थिर है। उन्होंने कहा कि यूरो लंबे समय से बना हुआ है लेकिन वह अब तक इस स्तर पर नहीं पहुंचा है जिसकी शुरू में उम्मीद थी। वहीं चीन भी लंबे समय से अपनी मुद्रा को अंतरराष्ट्रीय स्तर पर स्थापित करने का प्रयास कर रहा है लेकिन उसे बहुत सफलता नहीं मिली है।

इसे भी पढ़ें: अगर पाकिस्तान काली-सूची में गया तो देश पाई-पाई को हो जाएगा मोहताज

विश्व आर्थिक मंच (डब्ल्यूईएफ) के सालाना सम्मेलन में डॉलर के दबदबे विषय पर आयोजित एक सत्र मे गोपीनाथ ने कहा कि ऐतिहासिक रूप से देखा जाए तो एक मुद्रा का वैश्विक कारोबार पर हमेशा दबदबा बना रहा है। उन्होंने कहा, ‘‘एक समय यह ब्रिटिश पाउंड थी और अब डॉलर है। अगर आप मुद्रा भंडार को देखें तो इसमें भी डॉलर का दबदबा बना हुआ है। उसके बाद यूरो का स्थान है...।’’

इसे भी पढ़ें: भारत की अर्थव्यवस्था अचानक इतनी नीचे जाने का क्या है कारण? यह रहा जबाव

उनके अनुसार डॉलर के दबदबे का कारण स्थिरता का वादा है। गोपीनाथ ने कहा, ‘‘अगर डॉलर के लिये भरोसेमंद दावेदार चाहते हैं, उसके लिये बहुत मजबूत मुद्रा बनाने की जरूरत होगी।’’

Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


अन्य न्यूज़