किसानों की फसल पद्धति में बदलाव चाहते हैं नितिन गडकरी

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  फरवरी 22, 2019   12:47
किसानों की फसल पद्धति में बदलाव चाहते हैं नितिन गडकरी

जातिवाद की प्रथा पर काबू पाने और देश के विकास के लिए काम करने की भी अपील की। उन्होंने कहा कि राज्य के किसानों को समस्याओं का सामना करना पड़ रहा है क्योंकि उन्हें अपनी गन्ने की फसलों से मुनाफा नहीं मिलता।

नयी दिल्ली। केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी ने बृहस्पतिवार को सुझाव दिया कि उत्तर प्रदेश में किसानों को अधिक लाभ प्राप्त करने के लिए फसल की पद्धति में बदलाव करना चाहिए। उन्होंने गन्ने से जैव ईंधन तथा एथेनॉल उत्पादन की भी वकालत की। केंद्रीय सड़क परिवहन और राजमार्ग मंत्री गडकरी ने 5,000 करोड़ रुपये की पानीपत-खटीमा राजमार्ग परियोजना की आधारशिला रखी। उन्होंने नमामि गंगे कार्यक्रम के तहत 232 करोड़ रुपये की परियोजना की आधारशिला भी रखी।

इसे भी पढ़ें- सिंधु जल संधि के तहत नदियों से पाकिस्तान जाने वाला पानी रोकेगी सरकार

मंत्री ने लोगों से जातिवाद की प्रथा पर काबू पाने और देश के विकास के लिए काम करने की भी अपील की। उन्होंने कहा कि राज्य के किसानों को समस्याओं का सामना करना पड़ रहा है क्योंकि उन्हें अपनी गन्ने की फसलों से मुनाफा नहीं मिलता। उन्होंने कहा कि वैश्विक बाजार में चीनी की दरें नीचे हैं और गन्ने की खेती में कोई लाभ नहीं है।

इसे भी पढ़ें- शक्तिकांत दास ने बैंक अधिकारियों पूछा, कर्ज क्यों नहीं किया जा रहा सस्ता





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।