38 वें अन्तर्राष्ट्रीय व्यापार मेले में राजस्थानी व्यंजनों ने दशकों का दिल जीता

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  नवंबर 24, 2018   13:10
38 वें अन्तर्राष्ट्रीय व्यापार मेले में राजस्थानी व्यंजनों ने दशकों का दिल जीता

प्रगति मैदान में चल रहे 38 वें अन्तर्राष्ट्रीय व्यापार मेले में राजस्थानी व्यंजनों ने दशकों का दिल जीत लिया है। राजस्थानी व्यंजनों में ब्यावर की तिल पापड़ी,गजक, बीकानेर के मशहूर पापड़,नमकीन-भुजिया,डिब्बा बंद मिष्ठान,चूर्ण,मसाले

नई दिल्ली। प्रगति मैदान में चल रहे 38 वें अन्तर्राष्ट्रीय व्यापार मेले में राजस्थानी व्यंजनों ने दशकों का दिल जीत लिया है। राजस्थानी व्यंजनों में ब्यावर की तिल पापड़ी,गजक, बीकानेर के मशहूर पापड़,नमकीन-भुजिया,डिब्बा बंद मिष्ठान,चूर्ण,मसाले,सूखी सब्जियां, कैर सांगरी और राजस्थान का मशहूर दाल-बाटी-चूरमा,बेसन के गट्टे,जोधपुरी कचौड़ियों में मूंग की दाल,प्याज एवं मीठी कचौड़ियों के साथ ही मूंग की दाल का हलवा, मिर्ची बड़े आदि व्यंजनों की खूब बिक्री हो रही है।

राजस्थान मंडप के निदेशक श्री दिनेश सेठी ने ने बताया कि राजस्थान मण्डप में अब तक लाखों रूपए मूल्य का सामान बिक चुका है। राजस्थान मंडप में पिछले दिनों में अपार जन समूह उमड़ा अनुमान है कि मण्डप को अब तक करीब लाखों लोग देख चुके हैं। राजस्थान के हस्तशिल्प सामान की जबर्दस्त बिक्री हो रही है। जयपुरी रजाइयों , राजस्थानी प्रिंट की साड़ियों तथा अन्य वस्त्रों के साथ राजस्थान के लाख की चूड़ियां श्रृंगार के अन्य साजो-सामान और राजस्थानी मोजड़ियों की मांग सबसे अधिक है।

26 नवम्बर सोमवार को राजस्थान दिवस

प्रगति मैदान में 26 नवम्बर सोमवार को राजस्थान दिवस मनाया जायेगा। राजस्थान पर्यटन की अतिरिक्त निदेशक श्रीमती गुंजीत कौर के अनुसार राजस्थान दिवस के अवसर पर प्रगति मैदान के हंस ध्वनि थिएटर पर प्रदेश के विभिन्न भागों से आमंत्रित राजस्थानी कलाकारों द्वारा रंगारंग सांस्कृतिक संध्या का आयोजन होगा I





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।