सेफएजूकेट करेगी वर्चुअल जॉब फेयर का आयोजन, कई MNC कंपनियां लेंगी हिस्सा

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  फरवरी 28, 2019   17:28
सेफएजूकेट करेगी वर्चुअल जॉब फेयर का आयोजन, कई MNC कंपनियां लेंगी हिस्सा

इस उद्देश्य के लिए, कंपनी ने भारतीय युवाओं के लिए कई अपस्किलंगि और रीस्किलंगि प्रोग्राम शुरू किए हैं और वर्चुअल जॉब फेयर इसी दिशा में उठाया गया एक कदम है।

नई दिल्ली। सप्लाई चेन मैनेजमेंट एवं लॉजिस्टिक के क्षेत्र में दक्षता रखने वाली भारत की सबसे बड़ी ट्रेनिंग, स्किलंगि और कंसल्टिंग फर्म सेफएजूकेट एक वर्चुअल जॉब फेयर आयोजित करने के लिए पूरी तरह से तैयार है। इस वर्चुअल जॉब फेयर के जरिये उम्मीदवारों को नियोक्ताओं से जुड़ने और इंटरनेट पर इंटरव्यू के लिए उपस्थित होने में मदद मिलेगी। 2017−2019 बैच के स्नातकों और एमबीए छात्रों के लिए आयोजित यह जॉब फेयर फरवरी 2019 को शुरू होगा। इसमें 500 नौकरियां प्रदान की जाएंगी और लॉजिस्टिक, सप्लाई चेन, ई−कॉमर्स, रिटेल, बैंकिंग और एफएमसीजी समेत विभिन्न क्षेत्रों से 50 से अधिक प्रमुख कंपनियों ने इसमें भाग लेने की पुष्टि कर दी है।

सेफएजूकेट की सीईओ एवं संस्थापक दिव्या जैन ने इस पेशकश पर अपनी प्रतिकि्रया व्यक्त करते हुए कहा, 'अच्छा रोजगार तलाशना समय गंवाने वाली और एक जटिल प्रक्रिया बन गई है क्योंकि उम्मीदवारों को अक्सर इसके लिए लंबी यात्रा करनी होती हैं। लेकिन सेफएजूकेट के वर्चुअल जॉब फेयर के साथ प्रतिभागी न सिर्फ नौकरी तलाश सकते हैं बल्कि वे यह कार्य अपने घर बैठे आराम से कर सकते हैं। चूंकि हाल के वर्षों में भारत में इंटरनेट इस्तेमाल में तेजी आई है, जिससे वर्चुअल जॉब फेयर रोजगार तलाशने वालों को महज एक बटन क्लिक कर प्रत्यक्ष रूप से उनके संभावित नियोक्ताओं से मिलने का मौका मुहैया करा सकते हैं। चाहे कोई मार्केिटंग एक्जीक्यूटिव बनना चाहता हो या बिजनेस डेवलपमेंट ऑफीसर, सेफएजूकेट की यह पहल युवाओं को नौकरी पाने के सपने को साकार करने का अवसर मुफ्त में प्रदान करेगी।'

इसे भी पढ़ें: ई-वाणिज्य पर समग्र नीति का प्रमुख कंपनियों ने किया स्वागत

सेफएजूकेट की वेबसाइट का इस्तेमाल कर छात्र कंपनी के बारे में और नौकरियों के बारे में जानकारी तलाश सकते हैं। जॉब फेयर के लिए ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन अभी चालू है और यह फरवरी 2019 तक खुला रहेगा। इच्छुक उम्मीदवार जॉब फेयर में शामिल किसी भी पांच कंपनियों का चयन कर सकते हैं और अपनी जरूरत के अनुसार नौकरी पाने के लिए एक दिन में कई इंटरव्यू सेशंस में हिस्सा ले सकते हैं। यदि उनका चयन होता है तो इंटरव्यू के बारे में सभी जानकारी वेबसाइट पर मुहैया करा दी जाएगी। इस पहल को प्रमुख और उभरती कंपनियों से शानदार प्रतिकि्रया मिली है। ग्रोफर्स की एचआर रचना ने कहा, 'सेफएजूकेट ने जरूरत के हिसाब से सभी स्तरों पर उच्च कुशल उम्मीदवारों की नियुक्ति में हमारी मदद की है। चूंकि ये उम्मीदवार लॉजिस्टिक उद्योग से पूरी तरह से वाकिफ हैं, इसलिए उनका रिटेंशन लेवल भी अधिक है। हम अपनी श्रम संबंधी जरूरतें पूरी करने के लिए सेफएजूकेट के साथ जुड़कर संतुष्ट हैं।'

इसे भी पढ़ें: ‘स्टार्टअप इंडिया के तहत 15,632 स्टार्टअप को मिली मान्यता : सरकार

फेडेक्स में एचआर मैनेजर विवेक सिंघानी का कहना है, 'बाजार में सही कुशल उम्मीदवार तलाशना कठिन है, लेकिन सेफएजूकेट ने उम्मीदवारों और संगठनों, दोनों को एक साथ आगे आने के लिए मंच मुहैया कराया है।' कंपनी ने देश में, खासकर सप्लाई चेन मैनेजमेंट और लॉजिस्टिक्स के क्षेत्रों में मौजूदा कौशल अंतर को दूर करने के लिए लगातार प्रयास किया है। इस उद्देश्य के लिए, कंपनी ने भारतीय युवाओं के लिए कई अपस्किलंगि और रीस्किलंगि प्रोग्राम शुरू किए हैं और वर्चुअल जॉब फेयर इसी दिशा में उठाया गया एक कदम है।

सेफएजूकेट के बारे में

भारत की सबसे बड़ी प्रशिक्षण, कौशल एवं परामर्श कंपनी सेफएजूकेट को सप्लाई चेन मैनेजमेंट एंड लॉजिस्टिक्स के क्षेत्रों में गहन अनुभव हासिल है। वर्ष 2007 में भारत में प्रख्यात लॉजिस्टिक सेवा प्रदाता सेफएक्सप्रेस द्वारा शुरू सेफएजूकेट का लक्ष्य देश के तेजी से बढ़ रहे लॉजिस्टिक क्षेत्र में कुशल श्रमिकों के लिए मांग को पूरा करना है। वर्ष 2013 में सेफएजूकेट उद्योग−केंद्रित पाठयक्रमों, कार्यक्रमों और कार्यशालाओं की पेशकश कर लोगों के प्रशिक्षण एवं सशक्तिकरण की दिशा में एक अलग कानूनी इकाई के तौर पर पहचान बनाने में सफल रही।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।