केंद्रीय मंत्रिमंडल ने भारत और जापान के बीच हुए सहयोग ज्ञापन को मंजूरी दी

India and Japan
एमओसी से भारत के लिए वैश्विक मानकीकृत प्रक्रिया से जुड़ने के अवसर मिलेंगे तथा आईसीटी तकनीक में सहयोग से देश में आईसीटी इन्फ्रास्ट्रक्चर को मजबूत बनाने में सहायता मिलेगी।
नयी दिल्ली। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की अध्यक्षता में हुई केन्द्रीय मंत्रिमंडल की बैठक में बृहस्पतिवार को सूचना और संचार प्रौद्योगिकी (आईसीटी) के क्षेत्र में द्विपक्षीय भागीदारी पर भारत और जापान के बीच हुए सहयोग ज्ञापन (एमओसी) को मंजूरी दे दी गई। एक आधिकारिक बयान में यह जानकरी दी गई। बयान में कहा गया कि एमओसी संचार के क्षेत्र में द्विपक्षीय सहयोग और पारस्परिक समझ को मजबूत बनाने में योगदान करेगा तथा भारत के लिए एक रणनीतिक पहल के रूप में काम करेगा, क्योंकि जापान “विशेष रणनीतिक और वैश्विक भागीदार” के दर्जे वाला एक अहम साझीदार है।

इसे भी पढ़ें: जमीन खरीद फरोख्त कानून पर बवाल, कार्यकर्ताओं के हिरासत से भड़कीं महबूबा बोलीं- ताकत है तो चीन से ले लो जमीन

 केंद्रीय मंत्रिमंडल के इस फैसले से दोनों देशों के बीच 5जी नेटवर्क, दूरसंचार सुरक्षा, सामुद्रिक केबल, संचार उपकरण के मानक प्रमाणन, आधुनिक वायरलेस तकनीक और आईसीटी की उपयोगिता, आईसीटी क्षमता निर्माण, सार्वजनिक सुरक्षा एवं आपदा राहत सहित कई अन्य क्षेत्रों में सहयोग में मदद मिलेगी। बयान के मुताबिक, ‘‘एमओसी से भारत के लिए वैश्विक मानकीकृत प्रक्रिया से जुड़ने के अवसर मिलेंगे तथा आईसीटी तकनीक में सहयोग से देश में आईसीटी इन्फ्रास्ट्रक्चर को मजबूत बनाने में सहायता मिलेगी।’’

Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


अन्य न्यूज़