अच्छी प्रेजेंटेशन बनाने के आसान टिप्स, आजमा कर देखिये

By वरूण क्वात्रा | Publish Date: Aug 13 2018 4:18PM
अच्छी प्रेजेंटेशन बनाने के आसान टिप्स, आजमा कर देखिये
Image Source: Google

जीवन में सफलता प्राप्त करने के लिए कुछ बातों पर गौर करना बेहद आवश्यक होता है। आप चाहे किसी भी ऑफिस में काम क्यों न करें लेकिन अपने काम के दौरान अक्सर आपको प्रेजेंटेशन देनी पड़ती है।

जीवन में सफलता प्राप्त करने के लिए कुछ बातों पर गौर करना बेहद आवश्यक होता है। आप चाहे किसी भी ऑफिस में काम क्यों न करें लेकिन अपने काम के दौरान अक्सर आपको प्रेजेंटेशन देनी पड़ती है। कोई भी प्रेजेंटेशन तभी सफल होती है, जब आप न सिर्फ अपनी बातों से सामने वाले को प्रभावित करें, बल्कि वे भी आपकी बातों में उतनी ही रूचि लें। एक अच्छी से अच्छी प्रेजेंटेशन को यदि सही तरीके से पेश न किया जाए, तो इसका प्रभाव काफी हद तक कम हो जाता है। तो चलिए जानते हैं किसी भी प्रेजेंटेशन को किस तरह करें पेश−
 
बॉडी लैंग्वेज पर दें ध्यान
 
जब भी आप कोई भी प्रेजेंटेशन दें तो आपकी बॉडी लैंग्वेज पर भी पूरा ध्यान दें। सबसे पहले तो आपकी आवाज और हाव−भाव से आत्मविश्वास झलकना चाहिए। अगर आपकी बॉडी लैंग्वेज से ऐसा लगता है कि आप घबराए हुए हैं या फिर आपको खुद ही अपने प्रॉडक्ट या प्रेजेंटेशन पर भरोसा नहीं है तो मीटिंग में बैठे हुए अन्य लोग आपकी बातों को सीरियसली नहीं लेते हैं। इस तरह जब आप बात करें तो आप सभी लोगों से बारी−बारी आईकान्टैक्ट बनाए रखने का प्रयास करें। 


 
आवाज का रखें ख्याल
 
अगर आप एक ही टोन में अपनी प्रेजेंटेशन कंप्लीट करते हैं तो वह काफी उबाऊ हो जाती है। इसलिए प्रेजेंटेशन के दौरान आप अपनी बॉडी लैंग्वेज के साथ−साथ अपनी आवाज के उतार−चढ़ाव पर भी पूरा ध्यान दें। आप जिस बात पर ज्यादा जोर देना चाहते हैं या अन्य लोगों का ध्यान आकर्षित करना चाहते हैं तो उसे आप थोड़ा जोर देकर कहें। याद रखें कि आपकी आवाज भी आपकी प्रेजेंटेशन को काफी हद तक प्रभावित करती है।  
 
जोड़ें आम जीवन से


 
कोई भी प्रोजेक्ट आम जनता के लिए ही होता है, इसलिए आप अपनी प्रेजेंटेशन में आम जनता को भी अवश्य शामिल करें। भले ही आपका प्रेजेंटेशन औपचारिक हो लेकिन फिर भी इसे लोगों से जोड़ कर प्रस्तुत करें। जब आप आम लोगों व उनकी परिस्थितियों को अपनी प्रेजेंटेशन में जोड़ते हैं तो उसका प्रभाव कई गुना बढ़ जाता है। 
 
जरूर लें दूसरों की राय
 


प्रेजेंटेशन का अर्थ यह नहीं होता कि सिर्फ एक व्यक्ति ही बोलता रहे और अन्य उसकी बात सुनते रहें। ऐसी प्रेजेंटेशन न सिर्फ बोरिंग होती है, बल्कि कुछ ही देर में लोगों का इंटरस्ट इसमें कम हो जाता है और वे बहुत सी बातों को सुनकर भी नहीं सुनते हैं। आप अपनी प्रेजेंटेशन को प्रभावी बनाने के लिए आप मीटिंग में बैठे अन्य लोगों की भी समय−समय पर राय लेते रहें। इससे मीटिंग के सदस्यों की भी आपकी बातों में रूचि रहेगी और आपको भी पता चलता रहेगा कि आप कहां पर गलती कर रहे हैं।
 
मुद्दे पर ही रहें
 
कुछ लोग प्रेजेंटेशन के दौरान जब बात करते हैं तो कभी−कभी मुद्दे से भटक जाते हैं। ऐसे में समय की बर्बादी तो होती है ही, साथ ही इसके चलते आप जो बात बताना चाहते हैं, वह भी सही ढंग से नहीं समझा पाते। ऐसे में आप इस बात का खास ख्याल रखें कि आप पूरी प्रेजेंटेशन के दौरान अपने मुद्दे पर ही रहें। अगर आप उदाहरणों का प्रयोग कर रहे हैं, वह भी आपके मुद्दे से ही जुड़ा होना चाहिए। इसके अतिरिक्त अपनी प्रेजेंटेशन को तय समय सीमा में खत्म करने का प्रयास करें। 
 
हर बार न देखें स्लाइड्स 
 
अक्सर देखने में आता है कि कुछ लोग प्रेजेंटेशन के दौरान बार−बार स्लाइड को देखते हैं। लेकिन वास्तव में आप ऐसा करने से बचें। कोशिश करें कि आप स्लाइड्स में सिर्फ मुख्य प्वाइंट्स ही पढ़ें। फिर आप बिना स्लाइड देखे उसे लोगों को समझाएं। ऐसा करने से पता चलता है कि आपको कॉन्सेप्ट एकदम क्लीयर है और आप उसे जितने अच्छे से दूसरों तक पहुंचाते हैं। यह भी एक अहम स्थान रखता है। 
 
-वरूण क्वात्रा

रहना है हर खबर से अपडेट तो तुरंत डाउनलोड करें प्रभासाक्षी एंड्रॉयड ऐप   



Disclaimer: The views expressed here are solely those of the author in his/her private capacity and do not necessarily reflect the opinions, beliefs and viewpoints of Prabhasakshi and do not in any way represent the views of Prabhasakshi.