Prabhasakshi
बुधवार, सितम्बर 19 2018 | समय 12:28 Hrs(IST)

स्तंभ

अस्मां जहांगीर के कारण ही पाकिस्तान में मानवाधिकार मुद्दा बन पाया

By कुलदीप नैय्यर | Publish Date: Feb 21 2018 1:26PM

अस्मां जहांगीर के कारण ही पाकिस्तान में मानवाधिकार मुद्दा बन पाया
Image Source: Google

अस्मां जहांगीर, जो पिछले सप्ताह गुजर गईं, एक लोकप्रिय मानवाधिकार वकील और सामाजिक कार्यकर्ता थीं। वैसे उसका काम पाकिस्तान तक सीमित था, पर पूरे उपमहाद्वीप में उसकी मिसाल दी जाती थी। उसने व्यक्तिगत अधिकारों की रक्षा के लिए ह्यूमन राइट्स कमीशन स्थापित करने की घोषणा जिस जगह से की थी वह भारत और पाकिस्तान के बीच संबंध सुधारने के लिए बैठक करने की जगह भी बन गई थी।

अस्मां भारत और पाकिस्तान के लड़के−लड़कियों को उस आवास पर जमा करती थीं जो संसद के सदस्य के रूप मुझे मिला हुआ था। मैं देखता था कि अस्मां समाज पर धर्म के असर को बदलने के लिए पूरी कोशिश करती थीं। धर्म में राजनीति मिलाना ही समस्याओं के विनाश की वजह थी।
 
कुछ दिनों पहले ही उसने मुझे लाहौर से टेलीफोन कर बताया था कि बेटी की शादी कर देने के बाद अब उसके पास भारत और पाकिस्तान के बीच संबंध सुधारने के लिए काम करने के लिए ज्यादा समय रहेगा। शायद यह उसके कहने का तरीका था कि एक धर्म की ओर झुके समाज को बदलने के लिए उसे अभी मीलों जाना है।
 
अस्मां को इस बात का संतोष हो सकता है कि वह भारत और पाकिस्तान को सहमति की ओर लायी थी, भले ही नजदीक आने में उनकी हिचकिचाहट साफ दिखाई देती हो। अस्मां ने नई दिल्ली और इस्लामाबाद को यह महसूस कराया कि आमने−सामने बैठकर इस पर चर्चा का कोई विकल्प नहीं है कि वे अपना झगड़े क्यों नहीं खत्म कर सकते। वैसे नई दिल्ली ने तय कर लिया था कि पाकिस्तान जब तक आतंकियों को शरण देना बंद नहीं करता तब तक कोई बातचीत नहीं होगी, अस्मां का मानना था कि सुलह की अब भी कुछ गुंजाइश थी।
 
लेकिन विदेश मंत्री सुषमा स्वराज इस बारे में स्पष्ट थीं कि आतंक और बातचीत साथ−साथ संभव नहीं हैं, जब तक भारत को यह महसूस नहीं होता कि पाकिस्तान इस मुद्दे पर गंभीर है, नई दिल्ली इस्लामाबाद से बातचीत नहीं करेगी। अस्मां महसूस करती थीं कि कोई सार्थक बैठक करने के पहले पाकिस्तान की सेना के साथ कुछ समस्याएं हैं जिन्हें दूर करना पड़ेगा। वह ऐसी बैठक को लेकर काफी सकारात्मक थीं और किसी तरह सत्ताधारियों को इसके औचित्य को समझने के लिए राजी कर सकती थीं।
 
लेकिन मुझे निराशा है कि अस्मां की मौत पर भारत में बहुत कम प्रतिक्रिया हुई जबकि उसने भारत से दुश्मनी की कसम खाई पाकिस्तान की सेना को चुनौती दी थी। भारत और पाकिस्तान के संबंध बेहतर बनाने को लेकर उसका समर्पण उत्साहवर्धक था। मैंने सदैव उसकी कोशिशों को समर्थन दिया।
 
राज्यसभा के सदस्य के रूप में मुझे लोदी इस्टेट में एक आवास दिया गया था जहां वह पाकिस्तान के लड़के−लड़कियों को हिंदुस्तान के लड़के−लड़कियों से मिलाने के लिए लाती थी। उसने उस जगह का नाम पाकिस्तान हाउस रख दिया था। भारत के लड़के−लड़कियों से विदा लेते वक्त पाकिस्तान के बच्चे−बच्ची आंसू बहाते थे। वह एक खास धर्म की ओर झुकते समाज से सीख लेने के लिए भारत के युवाओं को भी पाकिस्तान ले जाती थीं।
 
पाकिस्तान के मानवाधिकार और प्रतिरोध की प्रतीक अस्मां चार दशकों से ज्यादा समय से सैनिक तानाशाहों की प्रबल विरोधी थीं। वह भारत−पाकिस्तान शांति की भी प्रबल समर्थक थीं और भारत के साथ बातचीत के लिए कई अनौपचारिक प्रतिनिधमंडल का हिस्सा थीं। इतना ही नहीं, जब उसने न्यायपालिका में बतौर एक वकील काम करना शुरू किया तो उसका एक उल्लेखनीय कैरियर रहा। इससे उसकी लोकप्रियता का संकेत मिलता है कि वह पाकिस्तान के सुप्रीम कोर्ट बार एसोसिएशन की प्रमुख थीं।
 
अभी भी, पाकिस्तान की न्यायपालिका उसे इसके लिए याद करती है जब वह इफि्तखार चौधरी, जो पाकिस्तान के सुप्रीम कोर्ट के मुख्य न्यायाधीश थे, के सम्मान को वापस लाने के लिए लड़ी थीं। वकीलों के आंदोलन ने अंत में अपना लक्ष्य हासिल किया और यह राष्ट्रपति परवेज मुशर्रफ के पतन का कारण भी बना। उस अभूतपूर्व आंदोलन ने इस बात की उम्मीद बंधाई कि पाकिस्तान लोकतंत्र के महत्व और उसकी बहाली के महत्व को सचमुच समझ रहा है। लेकिन फिर, पाकिस्तान में हर शासक का ध्यान इसी पर रहता है कि सेना उसके साथ क्या करेगी और अभी के लिए भी यही सच है।
 
मुझे याद है अस्सी के दशक में अस्मां का मार्शल लॉ प्रशासक जनरल जिया उल हक से टक्कर लेना जब वह पाकिस्तान में लोकतंत्र की बहाली के आंदोलन में भिड़ी थीं। विरोध के आंदोलन का नेतृत्व करने के लिए उसे जेल में बंद कर दिया गया, लेकिन इसके शीघ्र बाद वह एक पहले दर्जे की आंदोलनकारी बन गई। कई बार उसकी उपलब्धियां नीलाम होने को थीं, लेकिन अडिग होकर उसने इन खतरों का सामना किया और तानाशाहों के खिलाफ खड़ी रही। इस प्रकिया में, उसने पाकिस्तान मानवाधिकार आयोग की स्थापना करने में मदद की और बाद में इसका अध्यक्ष भी बनी। वह अक्सर कहा करती थी कि अल्पसंख्यकों की रक्षा करना आयोग का कर्तव्य है। उसकी सदारत में आयोग ने ईश्वर−निंदा के साथ−साथ परिवार के कथित सम्मान के लिए की जाने वाली हत्याओं के आरोपों को सफलतापूर्वक रोका।
 
अस्मां ने अपने देश में महिलाओं के अधिकारों के आंदोलन की अगुआई भी उस समय की जब पाकिस्तान में मानवाधिकार को मुद्दा ही नहीं समझा जाता था। अस्मां के कारण आज लोग, खासकर औरतें, अपने अधिकारों की बात करती हैं और धार्मिक पार्टियों समेत राजनीतिक पार्टियां भी औरतों के अधिकारों के महत्व को महसूस करती हैं। इसका श्रेय अस्मां को जाता है।
 
एक खास मुद्दे को, जिसे अस्मां ने उठाया था वह ईसाइयों पर ईश्वर−निंदा के आरोपों का था। अल्पसंख्यक समुदाय के बहुत सारे लोगों को मौत की सजा का सामना करना पड़ता था क्योंकि ईश्वर−निंदा के अपराध के लिए कड़ी से कड़ी सजा का प्रावधान है। वह लापता लोगों को ढूंढ़ निकालने के मुकदमों को भी मुफ्त में लड़ती थी। एक दयालु हृदय वाली अस्मां कट्टरपंथियों की धमकियों समेत किसी तरह के दबाव के सामने नहीं झुकती थी।
 
पूरी दुनिया में लोकप्रिय, आंदोलनकारी अस्मां को रमन मैगासेसे और यूनाइटेड नेशंस ह्यूमन डेवेलपमेंट फंड पुरस्कार के अलावा कई पुरस्कार मिले थे। लेकिन अस्मां के लिए पुरस्कारों का कोई मतलब नहीं था क्योंकि उसका एक ही उद्देश्य था अपने देश में लोकतंत्र की बहाली करना जिसमें उसकी अडिग आस्था थी।
 
इसी तरह अस्मां ने सिर्फ पाकिस्तान के लोगों के लिए ही नहीं बल्कि फिलीस्तीन या दूसरी जगह के संघर्षों समेत पूरी दुनिया के लोगों के लिए लड़ाई लड़ी। बेशक, उसने अपने संघर्षों के कारण अपने देश में बहुत सारे दुश्मन बनाए, लेकिन उसका मानना था कि इन चुनौतियों को नजरअंदाज नहीं किया जा सकता है। यह अस्मां के बारे में काफी कुछ बयान करता है।
 
-कुलदीप नैय्यर

रहना है हर खबर से अपडेट तो तुरंत डाउनलोड करें प्रभासाक्षी एंड्रॉयड ऐप



Disclaimer: The views expressed here are solely those of the author in his/her private capacity and do not necessarily reflect the opinions, beliefs and viewpoints of Prabhasakshi and do not in any way represent the views of Prabhasakshi.

शेयर करें: