आंकड़ों से क्रिकेट में अच्छी प्रतिस्पर्धा को मिलना चाहिये प्रोत्साहन: राहुल द्रविड़

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  अप्रैल 9, 2021   12:09
  • Like
आंकड़ों से क्रिकेट में अच्छी प्रतिस्पर्धा को मिलना चाहिये प्रोत्साहन: राहुल द्रविड़

उन्होंने यह भी कहा कि युवा खिलाड़ी अब तकनीक का बेहतर इस्तेमाल करके विरोधी खिलाड़ियों की प्रोफाइल समझ पाते हैं और उनके खिलाफ रणनीति बना पाते हैं।

वाशिंगटन। भारत के महान बल्लेबाज राहुल द्रविड़ ने कहा है कि क्रिकेट में रणनीति बनाने और खिलाड़ियों के चयन में मदद करने वाले ‘डेटा’ (आंकड़ों) से अच्छी प्रतिस्पर्धा को प्रोत्साहन मिलना चाहिये। द्रविड़ ने 15वीं एमआईटी स्लोन खेल विश्लेषण कांफ्रेंस में कहा ,‘‘ क्रिकेट में बेसबॉल की तरह ही डेटा का विशेष स्थान रहा है लेकिन पिछले 15 साल में हम औसत की तुलना करने की बजाय इसका इस्तेमाल रणनीति बनाने और खिलाड़ियों के चयन में कर रहे हैं।’’ 

इसे भी पढ़ें: क्रिकेटर मोईन अली को लेकर तस्लीमा नसरीन का विवादास्पद ट्वीट, जोफ्रा आर्चर ने किया पलटवार

एमआईटी कांफ्रेंस में क्रिकेट पर पहली परिचर्चा का विषय ,‘ हाउजडाटा : हाउ एनेलेटिक्स इज रिवोल्शनाइजिंग क्रिकेट (कैसे आंकड़ों के जरिये विश्लेषण में क्रिकेट में क्रांति आ रही है)’ में क्रिकेट की बेहतरी के लिये आंकड़ों के इस्तेमाल पर बात की गई। भारत के पूर्व कोच और दक्षिण अफ्रीका के पूर्व बल्लेबाज गैरी कर्स्टन और इंग्लैंड महिला टीम की पूर्व क्रिकेटर और मौजूदा कमेंटेटर इशा गुहा ने भी इसमें भाग लिया। इसके सूत्रधार डेल टेक्नॉलाजी के निदेशक आलोक सिंह थे। द्रविड़ ने कहा,‘‘वह दिन दूर नहीं जब लोग सिंगल लेना छोड़ देंगे क्योंकि मैचअप उन्हें बताता है कि अगली दो या तीन गेंद में वह छक्का लगा सकते हैं।’’

इसे भी पढ़ें: कोरोना ने फिर बढ़ाई टेंशन, ICC ने दो पुरुष विश्व कप चैलेंज लीग सीरीज का कार्यक्रम बदला

उन्होंने हालांकि यह भी कहा कि डेटा का इस्तेमाल गेंद और बल्ले के बीच अच्छी प्रतिस्पर्धा के लिये होना चाहिये, सिर्फ चौके छक्के लगाने के लिये नहीं। गुहा ने कहा कि कैसे टी20 क्रिकेट के आने के बाद से हर गेंद अहम हो गई है। उन्होंने यह भी कहा कि युवा खिलाड़ी अब तकनीक का बेहतर इस्तेमाल करके विरोधी खिलाड़ियों की प्रोफाइल समझ पाते हैं और उनके खिलाफ रणनीति बना पाते हैं।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।




This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.Accept