मानसिक स्वास्थ्य काफी अहम है तो पैडी अपटन काफी मददगार होंगे : द्रविड़

Rahul Dravid
ANI Photo.
द्रविड़ ने कहा, ‘‘अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट में यात्रा करते हुए बतौर क्रिकेटर हम खेल की मानसिक पहलू को समझते हैं और हम भाग्यशाली हैं कि पैडी जैसा व्यक्ति हमारे साथ हैं क्योंकि उन्हें 2011 विश्व कप के दौरान भारतीय टीम के साथ होने का अनुभव है और इससे थोड़ा पहले का भी। ’’

पोर्ट ऑफ स्पेन|  भारतीय मुख्य कोच राहुल द्रविड़ को लगता है कि पैडी अपटन के पास जानकारी का अपार भंडार है और अंतरराष्ट्रीय स्तर पर व्यस्त क्रिकेट कैलेंडर में जब क्रिकेटरों के लिये मानसिक स्वास्थ्य सर्वोपरि बनता जा रहा है तो वह ऐसे समय में काफी उपयोगी साबित होंगे। अपटन को द्रविड़ के कहने पर भारतीय टीम के साथ जोड़ा गया है।

अब वह भारतीय खिलाड़ियों को आस्ट्रेलिया में टी20 विश्व कप के दबाव से निपटने में मदद करेंगे। द्रविड़ ने बीसीसीआई डॉट टीवी से कहा, ‘‘इतना क्रिकेट खेला जा रहा है कि क्रिकेट में मानसिक स्वास्थ्य काफी अहम है और अपटन जैसा संसाधन होना ग्रुप के लिये सचमुच मददगार होगा। ’’

अपटन 2008 से 2011 तक गैरी कर्स्टन के साथ चार साल काम कर चुके हैं। द्रविड़ को लगता है कि अपटन भारतीय क्रिकेट से अच्छी तरह वाकिफ हैं जो मददगार साबित होगा।

द्रविड़ ने कहा, ‘‘अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट में यात्रा करते हुए बतौर क्रिकेटर हम खेल की मानसिक पहलू को समझते हैं और हम भाग्यशाली हैं कि पैडी जैसा व्यक्ति हमारे साथ हैं क्योंकि उन्हें 2011 विश्व कप के दौरान भारतीय टीम के साथ होने का अनुभव है और इससे थोड़ा पहले का भी। ’’

उन्होंने कहा, ‘‘सबसे अहम चीज कि वह ज्यादातर भारतीय खिलाड़ियों को जानते हैं क्योंकि वह भारतीय टीम में या इंडियन प्रीमियर लीग में उनके साथ काम कर चुके हैं। ’’

द्रविड़ ने कहा, ‘‘वह हमारी संस्कृति से परिचित हैं और भारतीय टीम किस तरह से काम करती है। वह हमारे लिये पूरी तरह फिट दिखते हैं और विश्व कप के लिये टीम की तैयारियों में उनकी जानकारी अहम साबित होगी। ’’ वहीं अपटन ने कहा, ‘‘हर किसी का प्रेरित होने का तरीका होता है और व्यक्तियों को उनकी प्रेरणा खोजने में मदद करना मेरी भूमिका का हिस्सा है जिसके लिये हमें एक ऐसा माहौल बनाना होता है जिससे लोग खुद ही अच्छा करें। ’’

अपनी बात को समझाने के लिये उन्होंने माली का उदाहरण दिया कि खूबसूरत फूल उगाने के लिये माली को उपजाऊ जमीन तैयार करनी होती है। उन्होंने कहा, ‘‘मैं आपको एक सरल में बताता हूं कि खूबसूरत फूल उगाने के लिये माली को उपजाऊ जमीन बनानी होती है।

कोच के तौर पर हमारी भूमिका उपजाऊ माहौल बनाने की होती है जिससे हमारे खिलाड़ियों को मैदान के अंदर और बाहर प्राकृतिक रूप से अपनी पूरी क्षमता से प्रदर्शन करने में मदद मिले।

Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


अन्य न्यूज़