प्रधानमंत्री मोदी का पत्र मिलने से गदगद हुए पीटरसन, भारत की तारीफ में कही ये बात

kevin peterson
प्रधानमंत्री मोदी का पत्र मिलने से गदगद हुए पीटरसन, भारत को वैश्विक शक्ति बताया।पीटरसन ने ट्विटर पर पत्र साझा करते हुए कहा कि वह भारत के प्रति उनके स्नेह को स्वीकार करने के लिये प्रधानमंत्री के शुक्रगुजार हैं।

लंदन। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से भारत के 73वें गणतंत्र दिवस पर प्रशंसा पत्र पाने वाले ‘भारत के मित्रों’ में से एक इंग्लैंड के पूर्व कप्तान केविन पीटरसन ने शुक्रवार को उनका आभार व्यक्त किया और कहा कि एक अरब से अधिक जनसंख्या वाला यह देश वैश्विक महाशक्ति है। पीटरसन ने ट्विटर पर पत्र साझा करते हुए कहा कि वह भारत के प्रति उनके स्नेह को स्वीकार करने के लिये प्रधानमंत्री के शुक्रगुजार हैं। दक्षिण अफ्रीका के पूर्व क्रिकेटर जोंटी रोड्स और वेस्टइंडीज के आक्रामक बल्लेबाज क्रिस गेल को भी प्रधानमंत्री की तरफ से इसी तरह के पत्र मिले थे।

इसे भी पढ़ें: एक बार फिर आमने-सामने होंगे भारत और बांगलादेश, अंडर-19 विश्व कप के क्वार्टरफाइनल कौन मारेगा बाजी

पीटरसन ने ट्वीट किया, ‘‘प्रिय, श्री नरेंद्र मोदी, आपके पत्र में अविश्वसनीय रूप से स्नेहपूर्ण शब्दों के लिए आभार। पहली बार 2003 में भारत में कदम रखने के बाद से प्रत्येक यात्रा में मेरा आपके देश के प्रति प्यार बढ़ता गया।’’ उन्होंने कहा, ‘‘मुझसे हाल में पूछा गया था कि आपको भारत में सबसे अधिक क्या पसंद है और मेरा जवाब आसान था, वहां के लोग।’’ पीटरसन ने कहा, ‘‘सभी भारतीयों को दो दिन पहले मनाये गये गणतंत्र दिवस की शुभकामनाएं। एक गौरवशाली देश और वैश्विक शक्ति। मैं जल्द ही आपसे व्यक्तिगत रूप से मिलने के लिये उत्सुक हूं, ताकि वन्य जीवों के संरक्षण में भारत के अग्रणी देश होने के लिये आपका आभार व्यक्त कर सकूं।’’ प्रधानमंत्री ने पीटरसन को भारत का मित्र कहते हुए कहा, ‘‘क्रिकेट के मैदान पर आपका करिश्माई प्रदर्शन अब भी हम सभी की यादों में ताजा है। भारत और भारतीयों के साथ आपका जुड़ाव वास्तव में उल्लेखनीय है।’’ मोदी ने हिंदी में ट्वीट करके भारतीयों से जुड़ने के पीटरसन के प्रयासों के संदर्भ में कहा, ‘‘मैं हिंदी में किये गये आपके ट्वीट का भी पूरा आनंद लेता हूं।’’ पीटरसन ने हाल में गैंडों के संरक्षण में भारत की भूमिका की सराहना की थी।

Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


अन्य न्यूज़