इस बार का आर्थिक सर्वेक्षण असल में रोजगार की स्थिति का सर्वेक्षण होगा

By डॉ. राजेन्द्र प्रसाद शर्मा | Publish Date: Jun 13 2019 10:46AM
इस बार का आर्थिक सर्वेक्षण असल में रोजगार की स्थिति का सर्वेक्षण होगा
Image Source: Google

इस साल आर्थिक सर्वेक्षण का दायरा बढ़ाया गया है। हालांकि यह सातवां आर्थिक सर्वेक्षण होगा पर इसका सबसे बड़ा लाभ यह होगा कि सरकार के सामने देशवासियों की आर्थिक तस्वीर सामने आ जाएगी।

इस बार का आर्थिक सर्वेक्षण कई मायनों में अलग स्थान रखता है। खासतौर से देश के सामने उभर रही आर्थिक चुनौतियों और बेरोजगारी की समस्या को देखते हुए आर्थिक सर्वेक्षण की भूमिका और अधिक महत्वपूर्ण हो जाती है। हालिया आम चुनावों में राजनीतिक दलों द्वारा बेरोजगारी को प्रमुखता से मुद्दा बनाया गया और इसमें कोई दो राय भी नहीं कि बेराजगारी के जिस तरह के आंकड़े सामने आ रहे हैं वह वास्तव में चिंतनीय है। केन्द्र सरकार ने देश में सातवें आर्थिक सर्वेक्षण की आरंभिक तैयारियां पूरी कर ली हैं और सर्वेक्षण के लिए देश भर में प्रशिक्षण का काम जारी है। माना जा रहा है कि अगले छह माह में देश का समग्र आर्थिक सर्वेक्षण का काम पूरा कर लिया जाएगा। इसके आर्थिक सर्वेक्षण को यदि रोजगार सर्वेक्षण नाम दिया जाए तो अधिक सामयिक लगता है। दरअसल केन्द्र सरकार ने आर्थिक सर्वेक्षण में रोजगार के आंकड़े जुटाने का खास निर्णय लिया है। सर्वेक्षण में गली कूचे की चाय पानी की रेहड़ी से लेकर पटरी पर बैठने वालों तक को सर्वेक्षण के दायरे में लाने का निर्णय किया है। इस सर्वेक्षण में देशभर के 27 करोड़ परिवारों को शामिल किया जाएगा। इसके साथ ही 7 करोड़ अन्य स्थापित लोगों को भी इस दायरे में लाने का निर्णय किया गया है। खासतौर से अब सरकार ने इस तरह के सर्वेक्षण प्रत्येक तीसरे साल कराने का निर्णय किया है।


देखा जाए तो रोजगार के मामले पर चाहे किसी भी दल की सरकार हो, वह विपक्ष के निशाने पर रहती आई है। पिछले नवंबर−दिसंबर में राजस्थान सहित तीन राज्यों और हाल ही में हुए लोकसभा के चुनावों में पक्ष विपक्ष के बीच एक मुद्दा प्रमुखता से बेरोजगारी की उठा और बेरोजगारों का भत्ता देने सहित देश में करीब 21 लाख पद खाली होने के बावजूद नहीं भरे जाने और जीएसटी व नोटबंदी के कारण रोजगार के अवसर घटने को लेकर काफी विवाद रहा है। सभी दलों ने बेरोजगारी पर चिंता भी जताई और अपने अपने घोषणा पत्रों व वादों के अनुसार युवाओं को अपनी और आकर्षित करने के प्रयास भी किए। खैर अब चुनाव परिणाम आ चुके हैं और मोदी सरकार को स्पष्ट बहुमत मिल गया है। यह सही है कि देश में बढ़ती बेरोजगारी चिंता का कारण भी है। बेरोजगारी भत्ता इसका कोई समाधान भी नहीं हो सकता। पर रोजगार के अवसर पैदा करना सरकार का दायित्व भी हो जाता है।
 
दरअसल आर्थिक सर्वेक्षण के माध्यम से सरकार स्पष्ट व सही डाटा प्राप्त करना चाहती है। यही कारण है कि इस साल सर्वेक्षण का दायरा बढ़ाया गया है। हालांकि यह सातवां आर्थिक सर्वेक्षण होगा पर इसका सबसे बड़ा लाभ यह होगा कि सरकार के सामने देशवासियों की आर्थिक तस्वीर सामने आ जाएगी। इसी को ध्यान में रखते हुए सर्वेक्षण में ठेला, रेहड़ी, पटरी पर वस्तुएं बेचने वाले सहित देश के छोटे बड़े सभी प्रतिष्ठानों, इनमें काम करने वाले कार्मिकों, आर्थिक गतिविधियों का सर्वेक्षण किया जाएगा। इससे देश के सामने असली तस्वीर आ सकेगी और उसी तस्वीर के आधार पर भावी रूपरेखा तैयार हो सकेगी।
आर्थिक सर्वेक्षण का काम आरंभ हो चुका है। इसको लेकर केन्द्र सरकार ने दो कमेटियां भी बना दी हैं। आर्थिक सर्वेक्षण में सही जानकारी और सही आंकड़े आना जरूरी है क्योंकि सर्वेक्षण से प्राप्त आंकड़ों के आधार पर ही आर्थिक व सामाजिक विकास का रोडमेप तैयार किया जा सकेगा। देखा जाए तो जो आंकड़े सरकार के पास आते हैं उन्हीं आंकड़ों के आधार पर भावी योजना तैयार की जाती है। यह माना जाना चाहिए कि इस सर्वेक्षण से देश की आर्थिक स्थिति खासतौर से परिवार की प्रतिव्यक्ति आय, रोजगार की स्थिति, संगठित और असंगठित क्षेत्र में रोजगार के अवसर, गरीबी रेखा से नीचे और गरीबी रेखा के आसपास वाले परिवारों की स्थिति, रोजगार की संभावनाएं, आधारभूत सुविधाओं की स्थिति और उनकी उपलब्धता, कृषि और गैरकृषि क्षेत्र में रोजगार, संसाधनों की उपलब्धता आदि की जानकारी संग्रहित हो सकेगी।
 
इन आंकड़ों का विश्लेषण कर सरकार को सामाजिक आर्थिक विकास की योजनाओें का फीडबैक और धरातलीय स्थिति का पता चल सकेगा और उसी के आधार पर सरकार को विकास का रोडमैप बनाने में सहायता मिल सकेगी। इस सर्वेक्षण से प्राप्त आंकड़ों का समय रहते विश्लेषण करने के साथ ही रोजगार की संभावनाओं वाले क्षेत्रों को चिन्हित कर रोजगार के अवसर उपलब्ध कराने के ठोस प्रयास करने होंगे। एक बात साफ हो जानी चाहिए कि सरकारी नौकरी का मोह छोड़ना होगा और इस मोह को छुड़ाने के लिए सरकार को स्वरोजगार या परंपरागत या लघु उद्योगों को बढ़ावा देना होगा ताकि स्थानीय स्तर पर ही रोजगार के बेहतर अवसर उपलब्ध हो सकें।


सर्वेक्षण से सरकार के सामने 70 करोड़ परिवारों की आर्थिक स्थिति सामने आ जाएगी, उनके पास उपलब्ध संसाधनों की जानकारी के साथ ही आधारभूत सुविधाओं की तस्वीर भी सामने होंगी। इसके साथ ही लोगों की आय और आजीविका की तस्वीर सामने होगी। गरीबी रेखा के वास्तविक आंकड़े सामने होंगे तो सरकार को लोगों के जीवन स्तर को ऊँचा उठाने, गरीबी रेखा के नीचे के लोगों को गरीबी रेखा से ऊपर लाने, पानी−बिजली, स्वास्थ्य, शिक्षा, परिवहन आदि की सुविधाओं के विस्तार में भी सहायता मिल सकेगी। ऐसे में यह आर्थिक सर्वेक्षण महत्वपूर्ण हो जाता है। सर्वेक्षण को विकास का रोडमैप बनाने के लिए सर्वेक्षण करने वालों और सभी देशवासियों को सही और तथ्यात्मक जानकारी देने व लेने का दायित्व बन जाता है क्योंकि यह साफ है कि अगला सर्वेक्षण तीन साल बाद होगा। हालांकि इससे पहले पांच साल में सर्वेक्षण की व्यवस्था होने के बावजूद अभी तक आजादी के बाद आर्थिक सर्वेक्षण छह बार ही हुए हैं। ऐसे में बीपीएल, एपीएल, आवास, रोजगार, ऊर्जा, काम-धंधे, आय आदि की सूचना जितनी सही होगी उतना ही सही भावी रोडमैप बन सकेगा इसलिए सर्वेक्षण की सफलता के लिए सभी की भागीदारी और अहम जिम्मेदारी हो जाती है। माना जाना चाहिए कि सर्वेक्षण के आंकड़े आते ही सरकारी स्तर पर विश्लेषण से लेकर उसके आधार पर आर्थिक विकास की व्यावहारिक योजनाओं को धरातल पर लाना होगा ताकि लोगों के जीवन स्तर में सुधार हो और देश के प्रत्येक नागरिक के पास सम्मानजनक जीवन यापन के साधन हों।
 
-डॉ. राजेन्द्र प्रसाद शर्मा

रहना है हर खबर से अपडेट तो तुरंत डाउनलोड करें प्रभासाक्षी एंड्रॉयड ऐप   



Disclaimer: The views expressed here are solely those of the author in his/her private capacity and do not necessarily reflect the opinions, beliefs and viewpoints of Prabhasakshi and do not in any way represent the views of Prabhasakshi.

Related Video