सावधि जमा: गूगल-पे के जरिये खुलवाएं एफडी, मिलेगा आकर्षक ब्याज

सावधि जमा: गूगल-पे के जरिये खुलवाएं एफडी, मिलेगा आकर्षक ब्याज

गूगल पे ने अपने जरिये सावधि जमा (एफडी) करने का जो ऑफर दिया है, उसके मार्फ़त आप किसी भी बैंक में अपनी फिक्स्ड डिपॉजिट करवा सकते हैं, चाहे वहां पर आपका खाता हो या नहीं। बताया जाता है कि एफडी की परिपक्वता पर गूगल पे से अटैच खाता में पूरी रकम आ जायेगी।

हरेक इंसान अपनी नौकरी-पेशेवाली जिंदगी में कुछ न कुछ बचत करके रखना चाहता है, ताकि वह भविष्य की प्रत्याशित-अप्रत्याशित जरूरतों को पूरा कर सके। इसके लिए वह सावधि जमा यानी फिक्स्ड डिपॉजिट को प्राथमिकता देता है, ताकि वह आड़े वक्त में इसे तोड़कर या उसपर लोन लेकर अपना काम चला सके। अभी तक कोई भी व्यक्ति सिर्फ वहीं पर अपनी फिक्स्ड डिपॉजिट (एफडी) करवा सकता था, जहां पर उसका खाता हो या फिर उसी बैंक की कोई शाखा अन्य जगहों पर हो। 

लेकिन अब गूगल पे ने अपने जरिये सावधि जमा (एफडी) करने का जो ऑफर दिया है, उसके मार्फ़त आप किसी भी बैंक में अपनी फिक्स्ड डिपॉजिट करवा सकते हैं, चाहे वहां पर आपका खाता हो या नहीं। बताया जाता है कि एफडी की परिपक्वता पर गूगल पे से अटैच खाता में पूरी रकम आ जायेगी। बता दें कि गूगल पे ने इस सुविधा को शुरू करने के लिए फिनटेक कंपनी सेतु के साथ इसी आशय का समझौता किया है। जिसके तहत सेतु के एपीआई के जरिये ही भारत के ग्राहकों को एफडी की स्कीम दी जाएगी। 

इसे भी पढ़ें: डिजिटल रूपी क्या है? यह कब से प्रचलन में आएगी?

दरअसल, फिनटेक स्टार्टअप सेतु एक एप्लिकेशन प्रोग्रामिंग इंटरफेस (एपीआई) स्टार्ट-अप है, जो बिल भुगतान, बचत, क्रेडिट और भुगतान में ग्राहकों को एपीआई प्रदान करता है। मशाबले की रिपोर्ट के अनुसार, कंपनी ने पहले ही प्लेटफ़ॉर्म पर एक परीक्षण संस्करण तैयार कर लिया है जो एफडी के लिए विभिन्न अवधियों की पेशकश करता है।

उल्लेखनीय है कि गूगल ने एफडी देने की शुरुआत इक्विटास स्मॉल फाइनेंस बैंक के साथ शुरू किया है। उसके साथ हुए करार के मुताबिक इक्विटास स्मॉल फाइनेंस बैंक की एफडी एक महज एक साल के लिए ही दी जाएगी। बताया जाता है कि गूगल-पे अपने ग्राहकों को एफडी कराने पर न्यूनतम 3.5 प्रतिशत और अधिकतम 6.35 फीसदी का ब्याज प्रदान करेगा। 

जहां तक प्रक्रिया की बात है तो गूगल की इस एफडी स्कीम को लेने के लिए ग्राहक को अपना आधार नंबर देकर केवाईसी कराना होगा। बताया जाता है कि आधार नंबर के द्वारा जुड़े हुए मोबाइल नम्बर के आधार पर ही आपके मोबाइल पर एक ओटीपी आएगा, जिसके लिए ‘सेतु’ ने एपीआई के लिए बीटा वर्जन तैयार कर लिया है। अब इसके बाद का काम जारी रखा गया है ताकि जल्द से जल्द यह स्कीम शुरू की जा सके।

इसे भी पढ़ें: e-RUPI क्या है और यह कैसे काम करता है,नए डिजिटल भुगतान के बारे में सब कुछ जानें

खास बात यह है कि देश-दुनिया का बेहद लोकप्रिय सर्च इंजन गूगल अपनी एफडी स्कीम नहीं बेचेगा बल्कि अन्य बैंकों की एफडी स्कीम को ही गूगल-पे के जरिये ग्राहकों को देगा। यदि गूगल की यह योजना सफल रही तो बैंकों पर सावधि जमा करने वाले ग्राहकों की निर्भरता खत्म होगी। इसलिए गूगल-पे से एफडी ग्राहकों के लिए एक बड़ी सुविधा बताई जा रही है, क्योंकि यह पूरी तरह से मोबाइल पर ही आधारित होगा।

कहना न होगा कि लोगों के हाथों में अधिकांश समय तक रहने वाले स्मार्टफोन में गूगल-पे का चलन जिस तरह से  बढ़ा है, उसे देखते हुए बनाई गई इस एफडी स्कीम को बड़ी पहल समझा जा रहा है। क्योंकि सावधि जमा करने वाले ग्राहकों को अब अपनी एफडी करने के लिए सिर्फ बैंकों या गैर-बैंकिंग संस्थाओं पर ही निर्भर नहीं रहना होगा,बल्कि अब यह काम पलक झपकते ही मोबाइल से भी हो सकेगा। वह भी गूगल-पे जैसे सहज उपलब्ध रहने वाले मोबाइल वॉलेट से संभव हो सकेगा। इस ऑफर की सबसे अच्छी बात यह है कि किसी बैंक में एफडी खोलने के लिए उस बैंक में बचत खाता का होना जरूरी नहीं होगा, बल्कि गूगल पे जिस खाता से अटैच होगा, वह एफडी भी परिपक्वता के बाद उसी खाते में डाल दी जाएगी।

सवाल है कि गूगल पे से एफडी खाता कौन खोल सकता है। इसे स्पष्ट करते हुए बताया गया है कि एफडी खोलने के लिए आधार आधारित केवाईसी करवाना अनिवार्य होगा। कहने का तातपर्य यह कि जो भी ग्राहक गूगल-पे के जरिये एफडी करना चाहेंगे, उनको किसी भी सूरत में आधार केवाईसी पूरी करनी ही होगी। इसके नहीं करने पर वह अपनी एफडी कतई नहीं करा पाएंगे।

जहां तक इस एफडी पर मिलने वाले ब्याज का सवाल है तो बता दें कि 7 से 365 दिन के बीच वाले 6 स्लैब बनाये गए हैं, जिसमें 7-29 दिन, 30-45 दिन, 46-90 दिन, 91-180 दिन, 181-364 दिन और 365 दिन के लिए एफडी स्कीम दी जाएगी। इसलिए सबसे कम दिन की एफडी पर 3.5 फीसदी और 1 साल की सुनिश्चित एफडी के लिए 6.35 फीसदी ब्याज दिया जाएगा। एफडी की परिवक्वता पर गूगल-पे से जुड़े खाते में आपका पैसा वापस जमा हो जाएगा।

यह भी स्पष्ट कर दिया गया है कि गूगल-पे से एफडी कराने पर जब वह एफडी मैच्योर हो जाएगी तो उसका पैसा वापस होते हुए ग्राहक के गूगल पे खाते में ट्रांसफर हो जाएगा। इस स्कीम में ग्राहक का सीधा संबंध गूगल और गूगल पे होगा, न कि इक्विटास स्मॉल फाइनेंस बैंक से। प्राप्त जानकारी के मुताबिक, इसी तरह की बात उज्जीवन स्मॉल फाइनेंस बैंक और एयू स्मॉल फाइनेंस बैंक के साथ भी चल रही है, जिसकी सफलता के बाद आप इनकी एफडी स्कीम भी गूगल के जरिये ही खरीदे सकेंगे। बताया जाता है कि यदि यह व्यवस्था कामयाब रहती है तो अन्य पेमेंट ऐप पर भी इसे लागू किया सकता है।

इसे भी पढ़ें: जानिए, ई-रुपी क्या है और क्या-क्या होंगे इसके फायदे?

सच कहा जाए तो हाल के समय में भारत में लोगों का निवेश के लिहाज से सबसे ज्यादा ध्यान म्यूचुअल फंड और स्टॉक पर है। लेकिन जब भी बात बचत यानी सेविंग की आती है तो लोगों द्वारा सबसे ज्यादा भरोसा सावधि जमा (एफडी) योजना पर ही किया जाता है। हालांकि यह भी कड़वा सच है कि एफडी स्कीम में मिलने वाले फायदे के बावजूद अभी तलक इसे नजरंदाज ही किया जाता है। आंकड़े बताते हैं कि जिस दर से लोग बचत खाते में पैसा रखते हैं, उस दर से एफडी में निवेश नहीं करते। शायद गूगल का ध्यान इस बात पर गया है कि जिसके चलते उसने योजना बनाई है कि गूगल पे के माध्यम से भी लोगों को एफडी से जोड़ा जा सके। 

अमूमन, गूगल पे देश में डिजिटल भुगतान के लिए एक लोकप्रिय प्लेटफॉर्म है। भारत में गूगल प्ले स्टोर पर ऐप के 10 करोड़ से अधिक डाउनलोड हैं। इसलिए उम्मीद की जा रही है कि गूगल पे ने अपने प्लेटफॉर्म पर एफडी लॉन्च करने के लिए एक भारतीय स्टार्टअप सेतु के साथ जो साझेदारी की है, सफल होगी। हालांकि, हैरत की बात यह भी है कि गूगल पे पर नई सुविधा के लिए आधिकारिक लॉन्च की तारीख भी गुप्त रखी गई है।

- कमलेश पांडेय

वरिष्ठ पत्रकार व स्तम्भकार