प्रेग्नेंसी में इस तरह करें मसाज ताकि बेबी को ना हो नुकसान

pregnancy
Creative Commons licenses
मिताली जैन । Jan 23, 2023 2:57PM
यूं तो प्रेग्नेंसी के नौ महीनों में महिला को किसी ना किसी तरह की स्वास्थ्य समस्या का सामना करना पड़ता है। लेकिन अगर आप मसाज के जरिए रिलैक्सिंग फील करना चाहती हैं तो ऐसे में आप पहली तिमाही में मसाज करने से बचें।

प्रेग्नेंसी किसी भी महिला के लिए एक ऐसा दौर होता है, जब उसे अपना सबसे अधिक ख्याल रखने की जरूरत होती है। इस दौरान महिला ना केवल अपने खानपान, व्यायाम और आराम का ख्याल रखती है, बल्कि इस दौरान होने वाले दर्द को कम करने के लिए कई तरीके अपनाते हैं। इन्हीं में से एक है मसाज करना। यह तो हम सभी जानते हैं कि मसाज करने से बेहद रिलैक्सिंग महसूस होता है। शायद यही कारण है कि प्रेग्नेंसी के दौरान महिलाएं मसाज करती हैं। लेकिन मसाज करते हुए सभी सावधानियों को बरतना जरूरी होता है। तो चलिए आज इस लेख में हम आपको प्रेग्नेंसी के दौरान सही तरह से मसाज करने के तरीके के बारे में बता रहे हैं-

समय का रखें ध्यान

यूं तो प्रेग्नेंसी के नौ महीनों में महिला को किसी ना किसी तरह की स्वास्थ्य समस्या का सामना करना पड़ता है। लेकिन अगर आप मसाज के जरिए रिलैक्सिंग फील करना चाहती हैं तो ऐसे में आप पहली तिमाही में मसाज करने से बचें। मसाज के लिए दूसरी व तीसरी तिमाही अधिक सुरक्षित मानी जाती है।

सही जगह पर करें मसाज

मसाज करते समय अक्सर हम उस बॉडी पार्ट पर मसाज करते हैं, जहां पर दर्द होता है। लेकिन प्रेग्नेंसी के दौरान मसाज करते समय आप हर बॉडी पार्ट पर मसाज नहीं कर सकती हैं। आप हेड मसाज, फुट मसाज के अलावा पीठ, गर्दन व हाथ-पैरों की मसाज कर सकती हैं। लेकिन आपको अपने पेट व स्तन की मसाज करने से बचना चाहिए।

इसे भी पढ़ें: Nutmeg Benefits: कई बीमारियों को दूर करता है जायफल, जानिए इसके बेमिसाल फायदे

मसाज के दौरान पोश्चर

यह एक प्रेग्नेंट वुमन के लिए बेहद जरूरी है। अधिकतर लोग मसाज करवाते समय पेट के बल लेट जाते हैं, लेकिन प्रेग्नेंट वुमन को ऐसा बिल्कुल भी नहीं करना चाहिए। बेहतर होगा कि आप करवट लेकर ही मसाज करवाएं। वहीं मसाज के दौरान बहुत अधिक झुकने से बचें। इससे आपके पेट पर अतिरिक्त दबाव पड़ सकता है। इसलिए अगर आप पैरों या तलवों की मसाज करना चाहती हैं तो बेहतर होगा कि इसके लिए आप किसी की मदद लें।

इन बातों का भी रखें ध्यान

प्रेग्नेंसी के दौरान मसाज करते समय आपको कुछ अन्य छोटी-छोटी बातों का भी ख्याल रखना चाहिए। मसलन-

- मसाज के लिए आप तेल को हल्का गुनगुना कर सकती हैं। वह ना तो बहुत तेज गर्म होना चाहिए और ना ही एकदम ठंडा।

- मसाज करते हुए हमेशा हल्का प्रेशर दें। कभी भी एकदम जोर से दबाव के साथ मसाज नहीं करनी चाहिए। 

- अगर आपको मसाज के दौरान दर्द का अहसास हो रहा है या फिर आप असहज महसूस कर रही हैं तो इसका अर्थ है कि आपका मसाज का तरीका सही नहीं है। इस स्थिति में आपको मसाज तुरंत रोक देनी चाहिए।

- मिताली जैन

डिस्क्लेमर: इस लेख के सुझाव सामान्य जानकारी के लिए हैं। इन सुझावों और जानकारी को किसी डॉक्टर या मेडिकल प्रोफेशनल की सलाह के तौर पर न लें। किसी भी बीमारी के लक्षणों की स्थिति में डॉक्टर की सलाह जरूर लें।

अन्य न्यूज़