‘संजीवनी बूटी’ ले जाते भगवान हनुमान की फोटो ट्वीट कर बोल्सनारो ने भारत को कहा- धन्यवाद

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  जनवरी 23, 2021   12:10
  • Like
‘संजीवनी बूटी’ ले जाते भगवान हनुमान की फोटो ट्वीट कर बोल्सनारो ने भारत को कहा- धन्यवाद

ब्राजील के राष्ट्रपति ने ‘रामायण’ का जिक्र करते हुए, भारत का कोविड-19 के टीकों के लिए शुक्रिया किया।बोलसोनारो ने अपने धन्यवाद संदेश के साथ भगवान हनुमान की एक तस्वीर भी साझा की, जिसमें वह ‘संजीवनी बूटी’ वाले पर्वत पर कोविड-19 के टीके लिए भारत से ब्राजील जाते नजर आ रहे हैं। इस तस्वीर पर भी धन्यवाद भारत लिखा है।

नयी दिल्ली। ब्राजील के राष्ट्रपति जेयर बोलसोनारो ने कोविड-19 के टीके की 20 लाख खुराकें देने के लिए प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी का शुक्रिया अदा किया है और सोशल मीडिया पर एक तस्वीर साझा की है जिसमें भगवान हनुमान को भारत से ‘संजीवनी बूटी’ ब्राजील ले जाते दिखाया गया है। बोलसोनारो ने ट्वीट किया, ‘‘ नमस्कार, प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी। वैश्विक बाधाएं दूर करने के लिए एक महान साझेदार पा कर ब्राजील गौरवान्वित है। भारत से टीके ब्राजील भेज हमारी मदद करने के लिए शुक्रिया। धन्यवाद।’’ बोलसोनारो ने अपने धन्यवाद संदेश के साथ भगवान हनुमान की एक तस्वीर भी साझा की, जिसमें वह ‘संजीवनी बूटी’ वाले पर्वत पर कोविड-19 के टीके लिए भारत से ब्राजील जाते नजर आ रहे हैं। इस तस्वीर पर भी धन्यवाद भारत लिखा है।

इसे भी पढ़ें: भारत ने अनेक देशों को भेंट किया कोरोना वायारस का टीका, अमेरिका ने सच्चा दोस्त कहकर की तारीफ

गौरतलब है कि ‘रामायण’ में भगवान राम के छोटे भाई लक्ष्मण की जान बचाने के लिए भगवान हुनुमान ‘संजीवनी बूटी’ लेकर आए थे। इसी सदंर्भ में ही बोलसोनारो ने यहां भगवान हुनुमान को कोविड-19 के टीके लाते हुए तस्वीर में दिखाया है। प्रधानमंत्री मोदी ने राष्ट्रपति जेयर बोलसोनारो के धन्यवाद संदेश के जवाब में कहा, ‘‘कोविड-19 के खिलाफ साझा लड़ाई में ब्राजील का विश्वसनीय सहयोगी होना भारत के लिए सम्मान की बात है। हम स्वास्थ्य के क्षेत्र में सहयोग को और मजबूत करना जारी रखेंगे।’’ बोलसोनारो ने पिछले साल भारत के मलेरिया की दवाई ‘ हाइड्रोक्सीक्लोरोक्वीन’ भेजे जाने पर प्रधानमंत्री मोदी को लिखे धन्यवाद पत्र में भगवान हनुमान की ‘संजीवनी बूटी’ से जुड़ी कहानी का जिक्र किया था।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।




This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.Accept